शहर से हटाए जाएंगे सूखे 197 खतरनाक पेड़, सरकार से मिली अनुमति

बरसात के मौसम में शिमला के लोगों को प्रदेश सरकार ने बड़ी राहत प्रदान की है. शहर में खतरनाक बने 197 पेड़ों को हटाने की अनुमति प्रदेश सरकार ने दे दी है.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 17, 2019, 8:06 PM IST
शहर से हटाए जाएंगे सूखे 197 खतरनाक पेड़, सरकार से मिली अनुमति
शिमला - मेयर कुसुम सदरेट ने कहा जल्द ही हटा दिए जाएंगे खतरनाक पेड़.
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 17, 2019, 8:06 PM IST
बरसात के मौसम में शिमला के लोगों को प्रदेश सरकार ने बड़ी राहत प्रदान की है. शहर में खतरनाक बने 197 पेड़ों को हटाने की अनुमति प्रदेश सरकार ने दे दी है. बता दें कि खतरनाक पेड़ों को हटाने के लिए निगम ने प्रदेश सरकार से अनुमति मांगी थी. इस पर मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में अनुमति प्रदान की गई. निगम की ट्री कमेटी ने प्रदेश सरकार से शहर में सूख चुके खतरनाक पेड़ों और गिरे हुए पेड़ों की कांट छांट करने के लिए सरकार से अनुमति मांगी थी. अब इस पर कैबिनेट ने अंतिम मुहर लगा दी है.

प्रदेश सरकार को खतरनाक पेड़ों को हटाने की सूची भेजी गई थी.


शिमला की मेयर कुसुम सदरेट ने बताया कि नगर निगम शिमला ने 6 माह पहले प्रदेश सरकार को खतरनाक पेड़ों को हटाने की सूची भेजी थी. इसके लिए अनुमति मिल गई है. अब निगम वन विभाग के साथ मिलकर जल्द ही इन पेड़ों को हटाएगी. उन्होंने बताया कि इसके अलावा और भी खतरनाक पेड़ों को लेकर नए आवेदन आए हैं. अभी ट्री कमेटी उनका निरीक्षण कर रही है. उन्होंने कहा कि शिमला शहर से 205 खतरनाक पेड़ों के आवेदन आए हैं, जबकि शिमला ग्रामीण क्षेत्र से 315 खतरनाक पेड़ों के आवेदन आए हैं. उन्होंने कहा कि इनका निरीक्षण कर जल्द ही अंतिम फैसला लिया जाएगा.

उन्होंने बताया कि शहर में जो पेड़ ज्यादा खतरनाक हैं, उन्हें SDM के संज्ञान में लाया जाएगा. इसके बाद प्रदेश सरकार की अनुमति के लिए दोबारा सूची भेजी जाएगी.

ये भी पढ़ें - हिमाचल: श्रीखंड महादेव यात्रा के दौरान एक श्रद्धालु की मौत

ये भी पढ़ें - नकाबपोश अपराधियों ने किया युवक पर जानलेवा हमला, फरार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 8:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...