लाइव टीवी

गृहमंत्री अमित शाह के भाषण के दौरान एंबुलेंस के गुजरने पर तल्ख हुए DC, उठाया ये कदम
Shimla News in Hindi

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 29, 2019, 4:09 PM IST
गृहमंत्री अमित शाह के भाषण के दौरान एंबुलेंस के गुजरने पर तल्ख हुए DC, उठाया ये कदम
गृहमंत्री अमित शाह ने रिज से एंबुलेंस के गुजरने की आवाज सुनकर अपना भाषण रोक दिया ताकि मरीज को परेशानी ना हो.

शिमला के डीसी अमित कश्यप (DC Amit Kashyap) को गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के भाषण के दौरान एंबुलेंस का आना और उसका साइरन बजाना नागवार गुजरा. उन्होंने अपने ऑफिस में ट्रैफिक कॉन्सटेबलों की क्लास ले ली.

  • Share this:
शिमला. जयराम सरकार (Jairam Government) के दो साल के कार्यकाल पूरा होने पर रिज मैदान पर समारोह आयोजित किया गया था. समारोह में गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के भाषण के दौरान रिज मैदान से एक एंबुलेंस गुजरी थी. सूत्रों के हवाले से खबर मिली है कि शिमला के डीसी अमित कश्यप (DC Amit Kashyap) को भाषण के दौरान एंबुलेंस का आना और उसका साइरन बजाना नागवार गुजरा. साहब की तल्खी इतनी बढ़ गई कि शनिवार को उन्होंने अपने ऑफिस में ट्रैफिक कॉन्सटेबलों की क्लास ले ली. इतना ही नहीं, जिस निजी अस्पताल से यह एंबुलेंस आईजीएमसी जा रही थी, उस अस्पताल के प्रशासन को भी डीसी ने तलब किया था. हालांकि, एंबुलेंस जब रिज मैदान से गुजर रही थी तब गृह मंत्री ने संवेदनशीलता दिखाते हुए अपने भाषण को बीच में दो बार रोका ताकि एंबुलेंस के भीतर मरीज को लाउड स्पीकर की आवाज से तकलीफ न हो. एंबुलेंस जब रिज मैदान पर वेटिंग ट्री से आगे आईजीएमसी रोड की तरफ निकली तब गृह मंत्री ने बोलना शुरू किया था.

ट्रैफिक कॉन्सटेबल को डीसी अमित कश्यप ने किया तलब

सूत्र बतातें हैं कि छोटा शिमला से लेकर मॉल रोड तक जो ट्रैफिक कॉन्सटेबल ड्यूटी पर थे, उन्हें डीसी ने तलब किया था. इतना ही नहीं जो ट्रैफिककर्मी वायरलेस पर लॉग देता है, उसे भी बुलाया गया था. अब बंद कमरे के भीतर क्या हुआ, इसकी जानकारी नहीं है. सूत्र यह भी बतातें हैं कि उन कॉन्सटेबलों की ट्रांसफर की भी बात सामने आ रही है.

एंबुलेंस में आॅक्सीजन पर थी एक वृद्ध महिला



जानकारी मिली है कि यह एंबुलेंस पंथाघाटी स्थित निजी अस्पताल से आई थी. एंबुलेंस में एक वृद्ध महिला थी और उन्हें ऑक्सीजन लगी हुई थी. वहीं दूसरी ओर इस मामले पर जब एसपी से बात की गई तो एसपी ने इस पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. हालांकि एसपी ने इस बात की पुष्टि की है कि डीसी ने कॉन्सटेबल को बुलाया था.

आखिर डीसी इतना तल्ख क्यों हुए. क्या उन्हें किसी का आदेश मिला था या फिर उन्होंने खुद यह कदम उठाया. इस बाबत हमने डीसी का पक्ष जानने के लिए उन्हें फोन किया लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया. हम जब उनके दफ्तर पहुंचे तो पता चला कि वो सचिवालय में हैं. हालांकि रैली स्थल पर जो रास्ता खाली रखा गया था, वह आपातकालीन वाहनों के लिए ही था.

यहां भी पढ़ें: सेना के जवान अंकुश ने सियाचिन में -40 डिग्री में बर्फीले तूफान से जीती जंग, सकुशल लौटे घर

CAA और NRC को लेकर राहुल और सोनिया गांधी का झूठ पकड़ा गया: अनुराग ठाकुर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 29, 2019, 4:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर