ट्रैफिक की समस्या पर जिला प्रशासन ने शुरू की तैयारी, सबसे पहले पॉश एरिया का कराया सर्वे

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में ट्रैफिक की समस्या दिन-प्रतिदिन विकराल होती जा रही है. मुख्य मार्गों के साथ—साथ शहर के उपनगरों की शायद ही कोई ऐसी सड़क होगी जहां पर ट्रैफिक जाम की समस्या नहीं है. आम आदमी घंटो जाम में फंसा रहता है.

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 7, 2018, 5:27 PM IST
ट्रैफिक की समस्या पर जिला प्रशासन ने शुरू की तैयारी, सबसे पहले पॉश एरिया का कराया सर्वे
शिमला में ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात पाने की पहल शुरू
Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 7, 2018, 5:27 PM IST
लोकशाही में वैसे तो सबसे पहले आम जनता का ख्याल रखा जाता है लेकिन हमारा सरकारी तंत्र इससे उल्टा चलता है. राजधानी में ट्रैफिक की समस्या दिन-प्रतिदिन विकराल होती जा रही है. मुख्य मार्गों के साथ-साथ शहर के उपनगरों की शायद ही कोई ऐसी सड़क होगी जहां पर ट्रैफिक जाम की समस्या नहीं है. आम आदमी घंटो जाम में फंसा रहता है. इस समस्या से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने एक कमेटी का गठन किया है. एडीएम को इस सर्वे का अध्यक्ष बनाया गया है.

ट्रैफिक व्यवस्था में सुधार के लिए इस कमेटी ने आज ट्रैफिक व्यवस्था में सुधार को लेकर जमीन पर काम करना शुरू किया, लेकिन ख्याल सबसे पहले नौकरशाही की सुविधा का आया. कमेटी ने छोटा-शिमला कसुमप्टी मार्ग पर इंस्पेक्शन कर इस बात की संभावनाएं तलाशी कि कहां से सड़क को चौड़ा किया जा सकता है. कौन से स्पॉट बाधा उत्पन्न करते हैं. इस मार्ग पर कवायद इसलिए शुरू की गई क्योंकि सरकार की 80 फीसदी से ज्यादा नौकरशाही इसी सड़क का इस्तेमाल करती है.

शहर में बहुत से ऐसे स्थान हैं जहां पर ट्रैफिक की समस्या बहुत ज्यादा है. अधिकारियों ने सख्त निर्देश दिए हैं कि सड़क के साथ जो भी अवैध कब्जा है उसे हटा दिया जाए. इंस्पेक्शन करने वाली टीम में एडीएम, एसडीएम और पुलिस अधिकारियों समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे. इस बाबत जब अधिकारियों से पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उन्होंने किसी भी तरह की बातचीत से इनकार कर दिया.

यह भी पढ़ें: हणोगी में बनेगा हिमाचल का पहला केबल स्टेयड ब्रिज, सीएम ने रखी पुल की आधारशिला 

न्यू ईयर और विंटर कार्निवल के नजदीक आते ही मनाली में होटलों की एडवांस बुकिंग बढ़ी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर