MC शिमला का कर्मचारियों को दीवाली बोनस, सैहब कर्मियों को भी दिया तोहफा

शिमला शहर.
शिमला शहर.

नगर निगम शिमला की मेयर सत्या कौंडल ने भी कहा कि निगम का कार्यालय एक छत के नीचे होना चाहिए, जिसके लिए दो या तीन जगह देखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 31, 2020, 10:01 AM IST
  • Share this:
शिमला. त्योहारी सीजन में नगर निगम शिमला (MC Shimla) ने अपने कर्मचारियों को दीवाली तोहफा दिया है. एमसी शिमला दीवाली के मौके पर निगम कर्मचारियों को एडवांस बोनस देने जा रहा है, जिस पर निगम (Municipal Corporation) की मासिक बैठक में अंतिम मुहर लग गई है.दीवाली बोनस के तौर पर निगम जहां नियमित कर्मचारियों को 20 -20 हजार रुपये का एडवांस तोहफा देने जा रहा है, वहीं सैहब कर्मचारियों को भी 2-2 हजार रुपये बोनस मिलेगा.

फेस्टिवल सीजन के दौरान नगर निगम शिमला अपने कर्मचारियों को इस तरह का बोनस देता है, जिसका सीधा लाभ कर्मचारियों को पहुंचता है.नगर निगम मेयर सत्य कौंडल की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई मासिक बैठक में जहां शहर से जुड़े विभिन्न विकासकार्यों पर मुहर लगी. वहीं सर्दियों से निपटने के लिए भी निगम ने अनुमानित बजट का प्रावधान किया है.

मासिक बैठक में छाया मुद्दा
मासिक बैठक के दौरान जहां लॉक डाउन के दौरान शहरवासियों को राहत देने का मुद्दा छाया रहा. वहीं, बीपीएल सूची का कई सालों से नवीनीकरण न होने पर पार्षदों ने निगम को घेरा है. निगम पार्षदों के आरोप है कि साल 2007 के बाद निगम परिधि के भीतर बीपीएल परिवार सूची में न तो किसी तरह की छंटनी की गई है और और न ही कोई नए प्रभावित परिवार को एंट्री मिली है.
विकास कार्यों को भी लगी मुहर


मासिक बैठक के दौरान शहर से जुड़े विभिन्न विकासकार्यो पर भी मुहर लगी है जिसमें जहां स्मार्ट सिटी के तहत नई पार्किंग, पार्क,ओवर फुट ब्रिज का निर्माण किया जाना है वहीं स्मार्ट सिटी के तहत शिमला के सब्जी मंडी में एक छत के नीचे सभी सुविधाएं देने के लिए निगम कार्यालय का निर्माण किया जाएगा.बता दें कि नगर निगम शिमला के मेयर डिप्टी मेयर टाउन हॉल में बैठते है, जबकि अन्य अधिकारी व कर्मचारी डीसी ऑफिस के कार्यालय में बैठते हैं. लेकिन अब नगर निगम एक छत के नीचे कार्यालय बनाने का राग अलाप कर स्मार्ट सिटी का पैसा पानी को तरह बहाने की फ़िराक में है.

निगम में होड़
नगर निगम शिमला लिफ्ट के पास पीपीई मोड पर बनी करोड़ों की पार्किंग में कार्यालय बनाने की होड़ में लग गया है. क्योंकि नगर निगम शिमला को स्मार्ट सिटी व अमृत मिशन का करोड़ों रुपया दिख रहा है. वैसे भी नगर निगम शिमला ने स्मार्ट सिटी के नाम पर कोई बड़ा काम शिमला में किया नही है. ऐसे में इस तरह से पैसे को लगाया जा रहा है. नगर निगम शिमला की मेयर सत्या कौंडल ने भी कहा कि निगम का कार्यालय एक छत के नीचे होना चाहिए, जिसके लिए दो या तीन जगह देखी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज