मानसून की पहली ही बारिश में ढहा मकान, बाल-बाल बचा बुजर्ग दंपति

शनिवार की सुबह राजधानी शिमला में हुई मूसलाधार बारिश से एक असुरक्षित भवन का एक हिस्सा गिर गया. यह हिस्सा साथ लगते दूसरे भवन पर गिरा.

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 14, 2019, 10:23 AM IST
मानसून की पहली ही बारिश में ढहा मकान, बाल-बाल बचा बुजर्ग दंपति
शिमला में पहली ही बारिश में एक मकान ढह गया
Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 14, 2019, 10:23 AM IST
हिमाचल की राजधानी शिमला में मानसून की मूसलाधार बारिश शहरवासियों को डराने लगी है. शहर के असुरक्षित भवन और खतरनाक पेड़ दिन-रात शहरवासियों को डरा रहे हैं. शनिवार की सुबह राजधानी शिमला में हुई मूसलाधार बारिश से एक असुरक्षित भवन का एक हिस्सा गिर गया. यह हिस्सा साथ लगते दूसरे भवन पर गिरा. राहत की बात यह रही कि एक तो जिस भवन का हिस्सा गिरा, वह खाली थ. इस भवन के साथ लगते मकान में बुजुर्ग दंपति रहते थे और वे भी बाल-बाल बच गए.

लोगों ने निगम से की भवन गिराने की मांग



असुरक्षित भवन-unsafe building
स्थानीय लोगों का कहना था कि पुराने भवन से गिरे मलबे से अभी भी खतरा बना हुआ है और अब उनका रास्ता पूरी तरह बंद हो गया है.


यहां रहने वाले लोगों का कहना था कि इस भवन में कई सालों से कोई नहीं रहता है और वार्ड पार्षद से इस मकान को गिराने की सिफारिश नगर निगम से भी की थी, लेकिन इसे अभी तक नहीं गिराया गया. शनिवार सुबह हुई भारी बारिश से मकान का एक भाग गिर गया. स्थानीय लोगों का कहना था कि पुराने भवन से गिरे मलबे से अभी भी खतरा बना हुआ है और अब उनका रास्ता पूरी तरह बंद हो गया है. स्थानीय लोगों ने नगर निगम से इस भवन को जल्द गिराने की मांग की, ताकि कोई बड़ी दुर्घटना न हो.

खलीणी और इंजनघर में भी डंगे गिरने की सूचना

उधर, खलीणी और इंजनघर में भी बारिश के कारण डंगे गिरने की सूचना है. इससे किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है और जहां डंगे गिरे हैं, वहां कोई रहता नहीं है. स्थानीय लोगों ने नगर निगम से मांग की कि गिरे डंगों को जल्द से जल्द ठीक किया जाए, ताकि रास्ते ठीक रहें और लोगों को इस कारण कोई परेशानी न झेलनी पड़े.

मकान का मालिक शिमला में नहीं रहता
Loading...

उधर मौके पर पहुंची स्थानीय पार्षद किमी सूद और मेयर कुसुम सदरेट ने जल्द रास्ते को बहाल करने की बात कही. मेयर ने कहा कि घटना की सूचना मिलते ही वे मौके पर पहुंची. उन्होंने बताया कि जिस भवन का हिस्सा गिरा वह जर्जर हो चुका है और इसे असुरक्षित घोषित किया गया था, लेकिन मकान मालिक शिमला से बाहर रहता है, इसलिए मकान को गिराया नहीं जा सका.

जानमाल का नुकसान नहीं हुआ

मेयर ने कहा कि भवन से साथ लगते मकान को और ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचे, इसके लिए मकान मालिक को इस भवन को गिराने के निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने बताया कि इस मानसून की यह पहली मूसलाधार बारिश हुई है, जिससे शहर के दूसरे वार्डों खलीणी और इंजनघर वार्ड में भी डंगा ढहने के सूचना मिली है, लेकिन कोई जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है.

यह भी पढ़ें: हिमाचल: विदेशी निवेशकों ने अभी तक 23 हजार करोड़ के किए MoU साइन: जयराम ठाकुर

IPH टैंक से पानी नहीं कर पाया शुरू तो दानकर्ता को ही ठहराया दोषी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...