Earthquake in Himachal: हिमाचल में भूकंप के झटके, 1 माह में चौथी बार हिली धरती, जान-माल का नुकसान नहीं

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

Earthquake in Himachal: अप्रैल महीने में हिमाचल में तीसरी बार भूंकप आया था. इससे पहले 5 अप्रैल को चंबा में 2.4 और लाहौल-स्पीति में 2.8 तीव्रता का भूकंप आया था. दोनों जिलों में आधी रात के बाद महसूस ये झटके किए गए थे. भूकंप के कारण किसी जानमाल के नुकसान नहीं हुआ था.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश में भूकंप आया है. सूबे के कांगड़ा जिले के धर्मशाला में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. मौसम विभाग के शिमला केंद्र ने इसकी पुष्टि की है. धर्मशाला में रिक्टर स्केल पर 3 की तीव्रता से भूकंप आया है.

इस माह से लगातार आ रहा भूकंप

अप्रैल महीने में हिमाचल में तीसरी बार भूंकप आया था. इससे पहले 5 अप्रैल को चंबा में 2.4 और लाहौल-स्पीति में 2.8 तीव्रता का भूकंप आया था. दोनों जिलों में आधी रात के बाद महसूस ये झटके किए गए थे. भूकंप के कारण किसी जानमाल के नुकसान नहीं हुआ था. वहीं, 16 अप्रैल को कांगड़ा जिले में तड़के करीब तीन बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. हालांकि, गहरी नींद में होने के चलते लोगों को भूकंप का अहसास नहीं हुआ और रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.5 मापी गई थी. इसके अलावा, बीते माह 8 मार्च 2021 को भी चंबा जिले में भूकंप आया था. इस दौरान भूकंप की तीव्रता 3.6 रिक्टर स्केल मापी गई थी.

चंबा में आते हैं सबसे अधिक भूकंप
हिमाचल में सबसे अधिक भूकंप चंबा जिले में आते हैं. इसके बाद किन्नौर, शिमला, बिलासपुर और मंडी संवेदनशील जोन में हैं. शिमला जिले को लेकर भी चेतावनी दी गई थी कि यह शहर भूकंप जैसी आपदा के लिए तैयार नहीं है. इसके अलावा किन्नौर में 1975 में बड़ा भूकंप आ चुका है. वहीं, कांगड़ा में 1905 में भूकंप आया था, जिसमें 20 हजार लोगों की जान गई थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज