vidhan sabha election 2017

इको टूरिज्म सोसाइटी की बैठक नई साइट चिन्हित करने पर हुई चर्चा

Pradeep Thakur | ETV Haryana/HP
Updated: December 8, 2017, 2:04 PM IST
इको टूरिज्म सोसाइटी की बैठक नई साइट चिन्हित करने पर हुई चर्चा
हिमाचल अपनी प्राकृतिक खूबसूरती के लिए देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है. प्रकृति की गोद में बसे होने के कारण हिमाचल में इको टूरिज्म की प्रबल संभावनाएं हैं.
Pradeep Thakur | ETV Haryana/HP
Updated: December 8, 2017, 2:04 PM IST
हिमाचल अपनी प्राकृतिक खूबसूरती के लिए देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है. प्रकृति की गोद में बसे होने के कारण हिमाचल में इको टूरिज्म की प्रबल संभावनाएं हैं. जिसे देखते हुए इको टूरिज्म सोसाइटी हिमाचल नए साल में इको टूरिज्म का दायरा बढ़ाने जा रही है.

अपनी खूबसूरत वादियों, ऊंचे-ऊंचे पहाड़, आसमान को छूते देवदार के जंगल और कलकल बहते पानी के लिए हिमाचल को जाना जाता है. देश-दुनिया से पर्यटक इस सौंदर्य को निहारने के लिए ही नहीं आते बल्कि यहां सुकून पाने के लिए भी आते हैं.

पर्यटन का केन्द्र हिमाचल में अब इको टूरिज्म अपना दायरा बढ़ाने जा रहा है. वन विभाग की ओर से गठित इको टूरिज्म सोसाइटी ने शिमला में वार्षिक बैठक आयोजित कर इको टूरिज्म की समीक्षा की. जिसमें कई अहम फैसले भी किए गए हैं. बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव वन एवं पर्यावरण तरूण कपूर विशेष तौर पर मौजूद रहे.

फैसला किया गया है कि नई चिन्हित साइटों पर काम नए साल से शुरू कर लिया जाएगा. वन विभाग ने 130 नई इको टूरिज्म साइटें चिन्हित की हैं. इन साइट्स पर वन विभाग गतिविधियों को तेज करेगा.

फिलहाल प्रदेश में निजी और सरकारी क्षेत्र में इको टूरिज्म साइटें चली हैं. जिसमें प्राइवेट के साथ 7 और वन विभाग अपने स्तर पर इतनी ही साइटें चला रहा है. 50 रेस्ट हाऊस को इको टूरिज्म मोड पर रखा गया है. इनमें अब 50 और वन विभाग के विश्राम गृह को इको टूरिज्म के लिए प्रयोग किया जाएगा.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर