फर्जी डिग्री मामला: APG यूनिवर्सिटी में अब तक 34 डिग्रियां मिलीं फर्जी, अधिकतर रिकार्ड नष्‍ट
Shimla News in Hindi

फर्जी डिग्री मामला: APG यूनिवर्सिटी में अब तक 34 डिग्रियां मिलीं फर्जी, अधिकतर रिकार्ड नष्‍ट
शिमला की एपीजी यूनिवर्सिटी.

Fake Degree Scam in Himachal: शिमला की एपीजी यूनिवर्सिटी (APG Universirty) और सोलन की मानव भारती यूनिवर्सिटी पर पांच लाख से ज्यादा फर्जी डिग्रियां बनाने और बेचने के आरोप हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 8:13 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में फर्जी डिग्री मामले में फंसी शिमला की एपीजी यूनिवर्सिटी (APG University) को लेकर लगातार नए खुलासे हो रहे हैं. सीआईडी (CID) मामले की जांच में जुटी है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि एपीजी यूनिवर्सिटी की अब तक 34 डिग्रियां फर्जी पाई गईं, 242 डिग्रियां शक के घेरे में हैं. BA-LLB, LLB और BBA कोर्स की ज्यादातर डिग्रियां फर्जी पाई गई हैं.

दो दिन रेड डाली गई
दूसरी ओर एसपी (सीआईडी) वीरेंद्र कालिया का कहना है कि मामले की तह तक पहुंचने के बाद ही कुछ बताया जा सकता है. फिलहाल जांच चल रही है. जांच टीम पुख्ता सबूत तलाश रही है. उन्होंने कहा कि बीते शनिवार तक लगातार चार दिन एपीजी यूनिवर्सिटी में रेड की गई. कुछ और रिकॉर्ड कब्जे में लिए गए हैं. साथ ही विवि के कम्प्यूटर्स से हार्ड डिस्क ली गई है, जिसे जल्द ही FSL लैब भेजा जाएगा.

अवैध कमेटी गठित कर रिकॉर्ड को नष्ट
जांच में ये भी पता चला है कि एपीजी प्रशासन ने साल 2019 तक का अधिकतर रिकार्ड फूंक दिया है. एक अवैध कमेटी गठित कर रिकॉर्ड को नष्ट किया गया है. परीक्षा शाखा में जिस रजिस्टर छात्रों के परीक्षा में लिए गए अंकों का रिकॉर्ड समेत अन्य जानकारी दर्ज होती है, वो रजिस्ट्रर जांच टीम को दिया गया है. उत्तर पुस्तिका में छात्रों को जो अंक मिलते हैं, उसका रिकार्ड शिक्षकों के पास भी होता है. आशंका इस बात की है कि शिक्षकों के पास मौजूद रिकॉर्ड और रजिस्ट्रर में दर्ज रिकार्ड में गड़बड़ी है. कई जगहों पर 8-9 टीचरों के हस्ताक्षर फर्जी तरीके से किए गए हैं.



क्या है मामला
बता दें कि इस मामले में एपीजी विवि के खिलाफ सीआईडी पुलिस स्टेशन भराड़ी में FIR दर्ज हुई है. IPC की धारा 465, 467, 471, 120B के तहत मामला दर्ज किया गया है. शिमला की एपीजी यूनिवर्सिटी और सोलन की मानव भारती यूनिवर्सिटी पर पांच लाख से ज्यादा फर्जी डिग्रियां बनाने और बेचने के आरोप हैं. पुलिस दोनों ही मामलों की जांच कर रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज