शिमला: कोरोना संक्रमित की मौत पर IGMC में परिजनों ने किया हंगामा

मृतक की पत्नी ने आरोप लगाया कि बार-बार आग्रह करने के बाद भी ऑक्सीजन नहीं मिली.

मृतक की पत्नी ने आरोप लगाया कि बार-बार आग्रह करने के बाद भी ऑक्सीजन नहीं मिली. ऑक्सीजन लगी तो तब तक पति की मौत हो चुकी थी. आईजीएमसी के डिप्टी एमएस डॉ राहुल गुप्ता ने कहा कि जो आरोप मृतक के परिजन लगा रहे हैं, वह निराधार हैं. अस्पताल में न तो ऑक्सीजन की कमी है और न ही सेवा की.

  • Share this:
शिमला. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच अस्पताल में उपचारित मरीजों की मौत भी लगातार हो रही है. अस्पतालों में होने वाली मौत को लेकर मृतक के परिजन प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगा रहे हैं. ऐसा ही मामला प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल आईजीएमसी में आया है जहां रविवार दोपहर एक कोरोना संक्रमित की मौत हुई जिसके बाद मृतक के परिजन ने हंगामा कर दिया. परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है. मृतक की पत्नी का कहना है कि अस्पताल में मरीजों को कोई सुविधा नहीं मिलती है जिसके चलते मरीज दम तोड़ रहे हैं.

मृतक की पत्नी ने आरोप लगाया कि बार-बार आग्रह करने के बाद भी ऑक्सीजन नहीं मिली. ऑक्सीजन लगी तो तब तक पति की मौत हो चुकी थी. पत्नी ने कहा कि करीब डेढ़ बजे उनके पति को ऑक्सीजन लेने में दिक्कत आई थी और वहां पर मौजूद स्टाफ से बार-बार आग्रह किया गया. करीब आधे घंटे तक कोई न तो मेडिकल स्टाफ आया और न ही ऑक्सीजन सिलेंडर लगाया गया. बाद में ऑक्सीजन लगाने लगे तब तक मौत हो चुकी थी. मृतक की पत्नी ने प्रशासन पर आरोप लगाए हैं कि सबसे बड़े अस्पताल में किस तरह से इलाज और उपचार किया जा रहा है.

उधर, आईजीएमसी के डिप्टी एमएस डॉ राहुल गुप्ता ने कहा कि जो आरोप मृतक के परिजन लगा रहे हैं, वह निराधार हैं. अस्पताल में न तो ऑक्सीजन की कमी है और न ही सेवा की. मृतक के फेफड़े पूरी तरह से खत्म हो चुके थे जिसके चलते मरीज को ऑक्सीजन लेने में परेशानी आ रही थी जो रिपोर्ट में दर्शाया गया है. उन्होंने कहा कि यदि परिजनों को लगता है कि मरीज की देखरेख में कोई लापरवाही बरती गई है तो वे वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक के पास शिकायत कर सकते हैं ताकि जांच कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए. उन्होंने कहा कि अस्पताल में मरीजों की सेवाओं के लिए आउट सोर्स पर भी स्टाफ नियुक्त किया है जो मरीजों की देखभाल लगातार कर रहे हैं. आउटसोर्स पर रखे गए मेडिकल स्टाफ के लिए कल से प्रशिक्षण शिविर लगाया जा रहा जा रहा है जिसमें व्यबहार से लेकर मरीजों की देखभाल में बताया जाएगा.