5 दिन तक पिता ने किया नाबालिग से रेप, महिला पुलिस ने बच्ची को मारा थप्पड़

ठियोग पुलिस को 24 मई को शिकायत की गई. शुरूआत में पुलिस ने पूरा सहयोग किया, लेकिन जैसे ही मामला मेडिकल के लिए अस्पताल पहुंचा, उसके बाद रवैया बदल गया और 29 मई को मेडिकल किया गया.

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 13, 2018, 7:57 PM IST
5 दिन तक पिता ने किया नाबालिग से रेप, महिला पुलिस ने बच्ची को मारा थप्पड़
ठियोग में नाबालिग से पिता ने किया रेप. (सांकेतिक तस्वीर.)
Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 13, 2018, 7:57 PM IST
हिमाचल में खाकी पर एक बार फिर से सवाल उठ रहे हैं. यहां दुष्कर्म के एक मामले में पुलिस की असंवेदनशीलता साफ उजागर हुई है. यहां ठियोग में एक 12 साल की मासूम से उसके पिता ने पांच दिन तक रेप किया. पीड़िता जब पुलिस के पास पहुंची तो लेडी कॉन्स्टेबल ने उसे ही थप्पड़ मार दिया.

आरोप है कि पिता ने बेटी का पांच दिन तक लगातार शोषण किया. मामला 24 मई को सामने आया था. अब पीड़िता की मां का कहना है कि मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की जा रही है और इस खेल में डॉक्टर भी शामिल हैं.

पीड़िता की मां का आरोप है कि मामले के पांच दिन बाद नाबालिग का मेडिकल करवाया गया. उन्होंने इस पूरी घटना की दर्दनाक कहानी बयां की.

पीड़िता की मां का कहना है कि आरोपी पिता ने 5 दिन तक बेटी का शोषण किया. पीड़िता की हालत यह थी कि वह कई दिनों तक शौच तक के लिए बैठ तक नहीं पाई. यह तकलीफ अब भी जारी है.

24 मई का मामला
ठियोग पुलिस में 24 मई को शिकायत की गई. शुरुआत में पुलिस ने पूरा सहयोग किया, लेकिन जैसे ही मामला मेडिकल के लिए अस्पताल पहुंचा, उसके बाद रवैया बदल गया और 29 मई को मेडिकल किया गया.

पीड़िता की मां ने सवाल किया है कि बिना किसी मेडिकल जांच के कैसे लेडी डॉक्टर और पुलिस ने कह दिया कि यह मामला दुराचार का नहीं है. क्यों पीड़िता और उसकी मां को 5 दिन तक ठियोग से शिमला तक के चक्कर कटवाए? शिमला में भी पहले आईजीएमसी, फिर रिपन अस्पताल और फिर कमला नेहरू अस्पताल के चक्कर लगवाए गए हैं?

आरोपी पिता न्यायिक हिरासत में है.

मां का पक्ष सुना जाएगा : एसपी
पुलिस कह रही है कि जांच खत्म नहीं हुई है और डॉक्टरों का कहना है कि ऐसे मामले में जानकारी साझा नहीं की जा सकती है. ओमपति जम्वाल, SP शिमला का कहना है कि पीड़िता की मां का पक्ष सुना जाएगा, लेकिन देखना होगा कि अब जांच कैसे होगी. क्या सही मायनों में आरोपी की बहन इतना रसूख रखती है कि वह डॉक्टर और पुलिस को खरीद सकती है. क्या लेडी कॉन्सटेबल ने मासूम को थप्पड़ मारा है? अगर मारा है तो वह कौन सी जांच प्रकिया थी.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर