लाइव टीवी

IIAS का 54वां स्थापना दिवस : तीन दिनों तक अकादमिक गतिविधियों के साथ होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 20, 2019, 6:57 PM IST
IIAS का 54वां स्थापना दिवस : तीन दिनों तक अकादमिक गतिविधियों के साथ होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम
IIAS में पहली बार हो रहा समारोह का आयोजन

कार्यक्रम के अंतिम दिन राज्य सभा सांसद सोनल मान सिंह शामिल होंगी. वह विश्व विख्यात क्लासिकल डांसर हैं. उन्हें भरतनाट्यम और ऑडिसी नृत्य शैली में महारत हासिल है.

  • Share this:
शिमला. भारतीय उच्च अध्ययन संस्थान (IIAS) का आज रविवार 20 अक्तूबर को स्थापना दिवस है. स्थापना के 54 वर्ष पूरा करने पर संस्थान में पहली बार समारोह का आयोजन किया जा रहा है. तीन दिवसीय कार्यक्रम का शुभारंभ विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल (Dr. Rajiv Bindal) ने
किया. तीन दिनों तक संस्थान में अकादमिक गतिविधियों के अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रमों (Cultural Programmes) का भी आयोजन होगा. समारोह के दूसरे दिन पश्चिमी कमांड के कमांडर रहे लेफ्टिनेंट जनरल (अतिविशिष्ट सेवा मेडल ) के.जे. सिंह शामिल होंगे. कार्यक्रम के अंतिम दिन सोनल मान
सिंह (Sonal Man Singh) शामिल होंगी. सोनल मान सिंह राज्य सभा सांसद हैं और विश्व विख्यात क्लासिकल डांसर हैं. सोनल मान सिंह को भरतनाट्यम और ऑडिसी नृत्य शैली में महारत हासिल है.

ऐतिहासिक इमारत की खस्ता हालत 

दरअसल संस्थान के 50 वर्ष पूरे होने पर समारोह का आयोजन होना था, लेकिन अपरिहार्य कारणों से स्थगित हो गया था. समारोह से पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एडवांस्ड स्टडी के अधिकारियों ने इस आयोजन की विस्तृत जानकारी दी. साथ ही इस ऐतिहासिक इमारत की खस्ता हालत को लेकर भी जानकारी दी. संस्थान के निदेशक प्रो. मकरंद परांजपे ने बताया कि भवन की हालत बेहद खस्ता है. कई स्थानों पर छत टपकती है. कमरों में पानी आता है. भवन के अलग-अलग हिस्सों में काफी समस्याएं हैं. किचन विंग की खराब हालत के चलते उसे बंद करना पड़ा.

संस्थान के निदेशक प्रो. मकरंद परांजपे ने बताया कि भवन की हालत बेहद खस्ता है.


इमारत के जीर्णोद्धार के लिए 65 करोड़ रुपए मंजूर 
Loading...

ब्रिटिशकाल की इस सबसे पुरानी इमारत के जीर्णोद्धार के लिए 65 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं. इस बाबत साल 2014 में एड्सल नाम के एक्सपर्ट ने सर्वे कर एक डीपीआर तैयार की थी. यह रिपोर्ट एमएचआरडी को सौंपी गई थी. 2014 में केंद्रीय लोक निर्माण विभाग को 5 करोड़ रुपए की राशि भी दे दी गई थी, लेकिन अब तक काम शुरू नहीं हो पाया है. मानव संसाधन मंत्रालय की ओर से 65 करोड़ की राशि मिलने पर जोर्णोद्धार का कार्य शुरू कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें - VIDEO: युवाओं के खून में बढ़ रहा है नशीला जहर, शिमला बनी चिट्टे की राजधानी

ये भी पढ़ें - पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर कर्मचारी सड़कों पर करेंगे धरना प्रदर्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 6:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...