लाइव टीवी

शिमला में हवा से चल रहे पानी के मीटर, भारी भरकम बिल पर लोगों ने बनाया VIDEO
Shimla News in Hindi

Gulwant Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: January 23, 2020, 4:05 PM IST
शिमला में हवा से चल रहे पानी के मीटर, भारी भरकम बिल पर लोगों ने बनाया VIDEO
शिमला में पानी के भारी भरकम बिलों से लोग परेशान हैं.

Shimla Water Bill Issue: शिमला जल निगम के एजीएम विजय गुप्ता ने कहा कि पेयजल उपभोक्ताओं को लगता है कि उन्हें जरुरत से अधिक पानी के बिल आ रहे हैं तो वे सम्बंधित वार्ड में कनिष्ठ अभियंता के कार्यालय में दुरुस्त करवाए जा रहे हैं.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला (Shimla) में पानी के भारी भरकम बिलों (Water Bill) को लेकर शहरवासियों में विरोध की आग धीरे-धीरे सुलगने लगी है. जल निगम द्वारा आठ माह के बिल एकसाथ जारी करने को लेकर जहां शहरवासियों ने पहले ही जल निगम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. अब पूर्व पार्षद और पूर्व मेयर ने भी नगर निगम (Shimla Municipal corporation) कार्यालय का घेराव करने की चेतावनी दी है.

पूर्व पार्षद सुरेंद्र चौहान का आरोप
पूर्व पार्षद सुरेंद्र चौहान का कहना है कि जल निगम द्वारा पेयजल उपभोक्ताओं के घरों में लगाए गए पानी के मीटर हवा से घूम रहे हैं, जिससे लोगों को भारी भरकम बिल आ रहे हैं. उन्होंने कहा कि शिमला शहर में पानी का जिम्मा सम्भाल रही कम्पनी बिना मीटर रीडिंग के भारी भरकम पानी के बिल जारी कर रही है. इसके साथ जल निगम ने जो पानी के बिल जारी करने का जिम्मा आउटसोर्स किया है, वह कर्मचारी जनता के साथ बदसलूकी करते हैं. उन्होंने कहा कि पानी के बिलों को लेकर नगर निगम शिमला पूरी तरह से मूकदर्शक बना हुआ है और इसका खामियाजा शहर की जनता को भुगतना पड़ा है.

दरों में किए जाए बदलाव

उन्होंने कहा कि पानी के लिए निगम ने जो स्लैब दरें बनाई हैं उन्हें भी दोबारा बदला जाना चाहिए. उन्होंने कहा निगम ने 20 हजार किलोलीटर पानी के उपयोग पर 16 रुपये इससे अधिक 50 हजार किलोलीटर पानी के उपयोग पर 28 रुपये और 50 हजार किलोलीटर से अधिक पानी खर्चने पर सीधे 50 रुपये की स्लैब दर तय की है. इसका सीधा नुक्सान शहर की जनता को पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि पानी की दरों की स्लैब दरें और पानी के बिल हर माह दिए जाएं, ताकि शहरवासी को राहत मिले.

निगम को दी चेतावनी
पूर्व पार्षद सुरेंद्र चौहान ने निगम को चेतावनी दी है कि यदि नगर निगम शिमला और जल प्रबन्धन निगम पानी के बिल को कम नहीं करता है तो वे निगम का घेराव करने से नहीं डरेंगे.यह बोले जल निगम के एजीएम
पानी के भरी भरकम बिलों को लेकर शिमला जल निगम के एजीएम विजय गुप्ता ने कहा कि पेयजल उपभोक्ताओं को लगता है कि उन्हें जरुरत से अधिक पानी के बिल आ रहे हैं तो वे सम्बंधित वार्ड में कनिष्ठ अभियंता के कार्यालय में दुरुस्त करवाए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि जल निगम मीटर रीडिंग के आधार पर ही पानी के बिल जा रहा है, लेकिन यदि किसी पेयजल उपभोक्ता को लगता है कि पानी के बिल अधिक आ रहे हैं या मीटर अधिक तेज चल रहा है तो वे सम्बंधित वार्ड में कनिष्ठ अभियंता के कार्यालय में इसकी शिकायत कर जांच भी करवा सकते हैं. पानी से सम्बंधित किसी भी समस्या के लिए जल निगम ने शहर के छह स्थानों पर जेई तैनात किए हैं.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में अब तक बर्फबारी-बारिश से 8 मौतें, 21 करोड़ रुपये का नुकसान

लापता शुभम मामला: रोहड़ू में युकां का प्रदर्शन, पुलिस से धक्का-मुक्की-हंगामा

PHOTOS: केलांग में -12 डिग्री तापमान में गणतंत्र दिवस की परेड की रिहर्सल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 3:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर