• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • IGMC में खुली सरकार की पोल, मरीजों को स्वास्थ्य कार्ड पर नहीं मिल रही दवाएं

IGMC में खुली सरकार की पोल, मरीजों को स्वास्थ्य कार्ड पर नहीं मिल रही दवाएं

शिमला का आईजीएमसी अस्पताल.

शिमला का आईजीएमसी अस्पताल.

बीते काफी समय से करीब 30 करोड़ की बकाया राशि सरकार ने अदा नहीं की है.

  • Share this:
    हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज में सरकार के दावों की हवा निकल गई है. हजारों स्वास्थ्य कार्ड धारकों को दवाईयां नहीं मिल पा रही हैं. दवाईयां देने वाले कैमिस्टों की देनदारी सरकार पूरी नहीं कर पाई है.

    बीते काफी समय से करीब 30 करोड़ की बकाया राशि सरकार ने अदा नहीं की है. ऐसे में कैमिस्ट ने मरीजों को दवाईयां देने से इंकार कर दिया है, जिसके चलते कई ऑपरेशन टालने पड़े हैं. दिल की बीमारी से जूझ रहे मरीजों के ऑपरेशन भी टालने पड़ गए हैं.

    केवल इमरजेंसी में ऑपरेशन ही किए जा रहे हैं. सबसे ज्यादा परेशानी गरीब मरीजों को हो रही है, क्योंकि उसके पास दवाईयां खरीदने के पैसे नहीं हैं. शिमला के कुमारसैन से बलदीप की मां दिल की बीमारी से जूझ रही हैं. मंगलवार को ऑपरेशन होना था, लेकिन कैमिस्ट ने दवाईयां देने से इंकार कर दिया. दवाईयों का खर्च 1 लाख 70 हजार रुपये से ज्यादा का है, लेकिन इतने पैसे नहीं हैं.

    ऐसे में ऑपरेशन के लिए दवाईयां नहीं मिलने से डॉक्टरों ने ऑपरेशन से इंकार कर दिया. हिमाचल प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल में बीते सोमवार को मात्र 247 लोगों को ही दवाईयां मिल पाई है.

    संकट के चलते विशेष स्वास्थ्य सचिव को अस्पताल जाना पड़ा और बैठक करनी पड़ी. IGMC के अधिकारियों को सरकारी नाकामी पर पर्दा डालना पड़ रहा है. माकपा ने भी इस अव्यवस्था पर सवाल उठाए हैं. संजय चौहान, वरिष्ठ माकपा नेता ने कहा कि सरकार को इस मुद्दे को गंभीरता से देखना चाहिए. जल्द से जल्द बकाया राशि की पेमेंट होनी चाहिए.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज