हिमाचल के 5500 रिटायर कर्मियों के लिए खुशखबरी, 14 साल से बंद ग्रेच्युटी देने का फैसला

हिमाचल सरकार ने नई पैंशन स्कीम के तहत साल 2003 के बाद से यह सुविधा बंद कर दी थी. 14 साल से सेवानिवृत कर्मी इस लाभ से वंचित थे. अब इन्हें इसका फायदा मिलेगा. सरकार के इस फैसले पर सेवानिवृत कर्मियों ने आभार और खुशी जताई है.

हिमाचल सरकार ने नई पैंशन स्कीम के तहत साल 2003 के बाद से यह सुविधा बंद कर दी थी. 14 साल से सेवानिवृत कर्मी इस लाभ से वंचित थे. अब इन्हें इसका फायदा मिलेगा. सरकार के इस फैसले पर सेवानिवृत कर्मियों ने आभार और खुशी जताई है.

हिमाचल सरकार ने नई पैंशन स्कीम के तहत साल 2003 के बाद से यह सुविधा बंद कर दी थी. 14 साल से सेवानिवृत कर्मी इस लाभ से वंचित थे. अब इन्हें इसका फायदा मिलेगा. सरकार के इस फैसले पर सेवानिवृत कर्मियों ने आभार और खुशी जताई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 10:45 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के 5500 सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर है. सरकार ने शुक्रवार को 15 मई, 2003 से सितंबर 2017 के बीच सेवानिवृत्त नई पेंशन स्कीम (NPS) से जुड़े कर्मचारियों की मृत्यु एवं सेवानिवृत्ति ग्रेच्युटी (डीसीआरजी) की अधिसूचना (Notifications) जारी कर दी है. सितंबर 2017 के बाद के कर्मचारियों को यह लाभ पहले ही दिया जा रहा है. अब अधिसूचना के जारी होने से सेवानिवृत्त कर्मचारियों और उनके आश्रितों को अधिकतम 10 लाख रुपये का लाभ मिलेगा.

हिमाचल सरकार के खजाने पर इससे करीब 110 करोड़ का बोझ पड़ेगा. प्रदेश सचिवालय कर्मचारी सेवाएं संघ के अध्यक्ष संजीव शर्मा ने कहा कि यह मामला एनपीएस संयुक्त मोर्चा के साथ मिलकर लंबे समय से उठाया जा रहा था. बीते 2 दिसंबर को भी अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष विनोद कुमार और पेंशन संयुक्त मोर्चा के राज्य महामंत्री एलडी चौहान ने अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त प्रबोध सक्सेना से मुलाकात की थी. उन्होंने भी अधिसूचना जारी करने के बारे में आश्वस्त किया था.

2003 के बाद से बंद था लाभ

हिमाचल सरकार ने नई पेंशन स्कीम के तहत साल 2003 के बाद से यह सुविधा बंद कर दी थी. 14 साल से सेवानिवृत कर्मी इस लाभ से वंचित थे. अब इन्हें इसका फायदा मिलेगा. सरकार के इस फैसले पर सेवानिवृत कर्मियों ने आभार और खुशी जताई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज