हमीरपुर में 5 वर्षीय मासूम से रेप: ‘केस वापस लेने के लिए 15 लाख की पेशकश’

जानकारी के अनुसार, चार जून का यह मामला है. 47 साल के दुकानदार पर पांच साल की बच्ची से रेप के आरोप में मामला दर्ज किया गया. बच्ची और उसका परिवार जिला मुख्यालय में किराये के मकान में रहता है. प्रवासी परिवार नेपाली मूल का है. बच्ची को पेटदर्द की शिकायत होने पर उसने परिजनों को पूरी बात बताई.

Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 17, 2019, 12:26 PM IST
हमीरपुर में 5 वर्षीय मासूम से रेप: ‘केस वापस लेने के लिए 15 लाख की पेशकश’
हमीरपुर में पांच साल की बच्ची से रेप. (सांकेतिक तस्वीर.)
Ranbir Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: June 17, 2019, 12:26 PM IST
हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में 5 वर्षीय मासूम से दुष्कर्म के मामले पर पीड़िता की मां ने बड़ा खुलासा किया है. पीड़िता बच्ची की मां का कहना है कि मामले को दबाने के लिए कई तरीकों से दबाव बनाया जा रहा है और केस को रफा-दफा करने के लिए 15 लाख रुपये तक की पेशकश की गई. जांच प्रकिया के दौरान थाने के बाहर रिश्तेदारों के जरिए यह पेशकश की गई है. पीड़िता की मां सिर्फ इंसाफ की मांग कर रही है.

हमीरपुर पुलिस पर नहीं भरोसा
इस मामले पर अखिल भारत नेपाली एकता मंच भी सामने आया है. नेपाली एकता मंच को हमीरपुर पुलिस की कार्यप्रणाली पर भरोसा नहीं है, इसलिए पीड़िता और उसके परिवार को शिमला लाया गया है. शिमला के कमला नेहरू अस्पताल में पीड़िता का मेडिकल करवाया गया है. नेपाली एकता मंच का आरोप है कि पीड़ित परिवार को न तो मेडिकल की कॉपी दी जा रही है और न ही एफआईआर की. मामले को दबाने की कोशिश की जा रही है. यहां तक की पैसों की भी पेशकश की जा रही है. पीड़ित परिवार के साथ पुलिस के व्यवहार को लेकर भी मंच ने कई सवाल उठाए हैं.

ये आरोप लगाए

मंच के सदस्य भोला राम का कहना है कि पुलिस केवल इतना कह रही है कि उसे रेप का शक है, लेकिन मेडिकल में अब तक दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है, जबकि पीड़िता के गुप्तांग में दर्द है और उसका उपचार किया जा रह है. नेपाली एकता मंच ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि इस मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाया जाए. साथ ही चेतावनी दी है कि अगर न्याय नहीं मिला तो नेपाली समाज आंदोलन करेगा.

ये है पूरा मामला
जानकारी के अनुसार, चार जून का यह मामला है. 47 साल के दुकानदार पर पांच साल की बच्ची से रेप के आरोप में मामला दर्ज किया गया. बच्ची और उसका परिवार जिला मुख्यालय में किराये के मकान में रहता है. प्रवासी परिवार नेपाली मूल का है. बच्ची को पेटदर्द की शिकायत होने पर उसने परिजनों को पूरी बात बताई. इसके बाद पुलिस ने शिकायत के आधार पर पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है. आरोप है कि आरोपी रोजाना बच्ची को टॉफी और चॉकलेट देता था. पीड़ित जिस किराये के मकान में रहती है, उससे कुछ ही दूरी पर आरोपी दुकान करता है. उसने पीड़ित को चॉकलेट देने के बहाने बुलाया और उसके साथ रेप किया.
Loading...

ये भी पढ़ें: जीनत के मां-बाप ने किन्नर होने पर छोड़ा, उसने गोद ली बेटी...

कांगड़ा के लिए नीदरलैंड के साथ 800 करोड़ का हुआ एमओयू

अब घरेलू बाजार में मिलेंगे हिमाचली सेब को अच्छे दाम

NGT के नियमों को ताक पर रख रोहतांग पहुंच रही 4000 टैक्सियां

इस तालाब में राजा करते थे अठखेलियां, अब कीचड़ में तब्दील
First published: June 17, 2019, 12:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...