शिमला और नरपुर स्कूल बस हादसे पर HC में सुनवाई आज

मुख्यमंत्री ने हादसे पर दु:ख जताया और हादसे की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश भी जारी कर दिए गए है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वह इस हादसे से काफी आहत हैं और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. मुख्यमंत्री ने भी कहा कि हादसे का कुछ लोग राजनीतीकरण कर रहे हैं. बच्चों की मौत पर राजनीति नहीं होनी चाहिए.

News18 Himachal Pradesh
Updated: July 2, 2019, 9:35 AM IST
शिमला और नरपुर स्कूल बस हादसे पर HC में सुनवाई आज
शिमला और नुरपुर बस हादसे पर हाईकोर्ट में सुनवाई आज.
News18 Himachal Pradesh
Updated: July 2, 2019, 9:35 AM IST
हिमाचल हाईकोर्ट में शिमला के झंझीड़ी में सोमवार को हुए स्कूल बस हादसे पर सुनवाई होगी. एक जनहित याचिका पर कोर्ट सुनवाई करेगा. नुरपुर में अप्रैल 2018 में हुए स्कूल बस हादसे पर भी हाईकोर्ट में सुनवाई होगी.

मुख्य न्यायाधीश वी रामसुब्रमनियन की खंडपीठ मंगलवार को सुनवाई करेगी. हिमाचल की कांग्रेस सरकार में महाधिवक्ता रहे और नूरपुर बस हादसे मामले में नियुक्त कोर्ट मित्र श्रवण डोगरा सहित अन्य अधिवक्ताओं ने इस मामले पर सुनवाई करने के लिए खंडपीठ के समक्ष गुहार लगाई है. कोर्ट ने नूरपुर स्कूल बस हादसे में लंबित जनहित याचिका के साथ इस मामले को जोड़ते हुए सुनवाई करने का फैसला किया है. बता दें कि नौ अप्रैल 2018 को कांगड़ा के नूरपुर बस हादसे में 24 स्कूली बच्चों समेत 28 लोगों की मौत हो गई थी. हाईकोर्ट ने 10 अप्रैल 2018 को मामले में सु-मोटो लिया था.

सोमवार को स्कूल बस हुई हादसे का शिकार
शिमला में एचआरटीसी की स्कूल बस हादसे का शिकार हो गई है. हादसे में दो छात्राओं समेत ड्राइवर की मौत हो गई है. दोनों बच्चों की मौके पर ही जान चली गई थी. उधर, घायल पांच बच्चों को शिमला के आईजीएमसी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. सुबह साढ़े आठ बजे के करीब यह हादसा हुआ है.

कुल सात बच्चे थे सवार
एचआरटीसी की बस सुबह चेल्सी स्कूल के बच्चों को लेकर जा रही थी. बस में ड्राइवर-कंडक्टर के अलावा सात बच्चे सवार थे. मृतक बच्चों की पहचान मान्या (15) निवासी लोअर खलीणी और मेहुल (13) भागवल नगर, झंझीड़ी की रूप में हुई है. वहीं बस चालक नरेश की भी मौत हो गई है.

अवैध पार्किंग की वजह से हादसा
Loading...

जानकारी के अनुसार, खलीणी के झंझीडी में यह सड़क संकरी थी. अवैध पार्किंग की वजह से जब ड्राइवर बस को निकाल रहा था, तो जगह कम होने की वजह से बस 500 मीटर नीचे लुढ़कती चली गई है. काफी नीचे गिरने के बाद ड्राइवर समेत दो बच्चियों की मौत हो गई है. हादसे के बाद स्थानीय लोगों ने मौके पर सड़क किनारे खड़ी गाड़ियों पर अपना गुस्सा फोड़ा और इस दौरान बड़ी संख्या में गाड़ियों के शीशे लोगों ने तोड़ दिए. सड़क भी जाम कर दी गई.

मजिस्ट्रियल जांच के आदेश
हादसे के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर और शिक्षा मंत्री आईजीएमसी पहुंचे. मुख्यमंत्री ने हादसे पर दु:ख जताया और हादसे की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश भी जारी कर दिए गए है. मुख्यमंत्री ने कहा कि वह इस हादसे से काफी आहत हैं और दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. मुख्यमंत्री ने भी कहा कि हादसे का कुछ लोग राजनीतीकरण कर रहे हैं. बच्चों की मौत पर राजनीति नहीं होनी चाहिए. इसके अलावा, राष्ट्रपित रामनाथ कोविंद ने भी हादसे पर शोक जताया है.

ये भी पढ़ें: HRTC स्कूल बस हादसा: खटारा थी बस, इंश्योरेंस हो चुका था खत्म

शिमला में महिला के साथ तीन नकाबपोशों ने किया गैंगरेप

हिमाचली बैंक मैनेजर की निकली 3 करोड़ रुपये की लॉटरी

नर्सिंग कॉलेज में छात्रा से रेप की कोशिश, आरोपी कुक की पिटाई
First published: July 2, 2019, 9:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...