हिमाचल में मौसम: निर्माणाधीन फ्लाईओवर के 4 पिलर गिरे, चंडीगढ़-मनाली हाईवे बहाल
Shimla News in Hindi

हिमाचल में मौसम: निर्माणाधीन फ्लाईओवर के 4 पिलर गिरे, चंडीगढ़-मनाली हाईवे बहाल
बिलासपुर में कीरतपुर-मनाली फोरलेन पर बन रहे फ्लाइओवर के पीलर्स गिर गए हैं.

Heavy Rain fall in Himachal Pradesh: 25 अगस्त के लिए येलो अलर्ट (Yellow) रहेगा. 26 और 27 अगस्त को हिमाचल (Himachal Pradesh) की मध्य पर्वतीय क्षेत्र और मैदानी इलाकों में भारी बारिश (Rain) होने संभावना है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 22, 2020, 8:27 AM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में बीते एक सप्ताह से खूब बादल बरस (Raining) रहे हैं. शुक्रवार को येलो अलर्ट के बीच प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में दिनभर खूब पानी बरसा. बिलासपुर (Bilaspur) में जहां भारी बारिश और भूस्खलन (Landslides) से कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन के निर्माणाधीन फ्लाईओवर के चार पिलर गिर गए. वहीं, सोलन (Solan) में एक मकान पर चट्टानें गिर गई. इसके अलावा, देर शाम मंडी-मनाली, पांवटा-शिलाई एनएच और शिमला-करसोग-मंडी मार्ग सहित प्रदेश में 272 सड़कें बंद रहीं.

मंडी में बंद रहा हाईवे

मंडी में औट के पास ब्यास में पानी बढ़ने और हाईवे पर मंडी-कुल्लू-मनाली के बीच जगह जगह लैंडस्लाइड के चलते नेशनल हाईवे बंद करना पड़ा. हालांकि, अब हाईवे बहाल कर दिया गया है. शुक्रवार को रोहतांग दर्रे में हल्का हिमपात हुआ है.



ये रहेगा मौसम का हाल
हिमाचल के मौसम में सुधार होने की उम्मीद फिलहाल कम है. मौसम विभाग के मुताबिक, हिमाचल में 27 अगस्त तक मौसम खराब रहेगा. 24 अगस्त को फिर से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा और इसका असर 25 अगस्त को देखने को मिलेगा. 25 अगस्त के लिए येलो अलर्ट रहेगा. 26 और 27 अगस्त को हिमाचल की मध्य पर्वतीय क्षेत्र और मैदानी इलाकों में भारी बारिश होने संभावना है.

शिमला में शुक्रवार को बारिश.


चेतावनी को लेकर जिला प्रशासन को मुस्तैद रहने के निर्देश जारी किए गए हैं. भारी बारिश होने के चलते लैंडस्लाइड, पेड़ गिरना और पहाड़ी क्षेत्रों में उनके चलते विजिबिलिटी कम हो सकती है. लोगों को भारी बारिश के समय जरूरी काम होने पर ही घर से बाहर निकलने की हिदायत दी गई है.

चंडीगढ़ मनाली हाईवे पर रात को हुई लैंडस्लाइड.


कहां-कहां बरस पानी

पिछले 24 घंटों में हिमाचल प्रदेश में चंबा जिले के डलहौजी में सबसे ज्यादा 66 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है. मंडी के सुंदरनगर में 59.7 मिलीमीटर बारिश के अलावा, कुल्लू के भुंतर में 10 एमएम, कल्पा में 1.1 एमएम, धर्मशाला में 24.6, ऊना में 10. 6 , नाहन में 29.8 ,केलॉन्ग में 1, पालमपुर में उन्नतीस , सोलन में 16.8 मनाली में 17 , कांगड़ा में 24 , मंडी में 4.1, बिलासपुर में 41 , चंबा में 53 और शिमला के कुफरी में 16 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई. लगातार बारिश से अधिकतम तापमान में करीब 2 डिग्री गिरावट दर्ज की गई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज