हिमाचल में प्री-मॉनसून में कहर बरपाने लगी बारिश, शिमला में चार मंजिला मकान गिरा
Shimla News in Hindi

हिमाचल में प्री-मॉनसून में कहर बरपाने लगी बारिश, शिमला में चार मंजिला मकान गिरा
शिमला में मकान गिरा.

हिमाचल में शनिवार को भारी बारिश का अंदेशा जताते हुए ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी किया गया है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश में बारिश अब कहर बरपाने लगी है. राजधानी शिमला (Shimla) में बारिश की वजह से मकान गिरा है. शनिवार करीब साढ़े दस बजे कुसुम्पट्टी के ऐरा होम में यह मकान गिरा (House Collapse) है. प्रशासन, पुलिस और फायरब्रिगेड की टीम मौके पहुंची है. बता दें कि हिमाचल में शनिवार को भारी बारिश का अंदेशा जताते हुए ऑरेंज अलर्ट (Orange Alert) जारी किया गया है. इस भवन में फ्लैट बने हुए थे. हालांकि, घटना के दौरान कोई  शख्स अंदर मौजूद नहीं था.

बच गया बड़ा हादसा

जानकारी के अनुसार, घटना से पहले ही अंदेशा हो गया था कि मकान गिरने वाला है. शिमला पुलिस के ASI अश्विनी कुमार मौके पर पहुंचे हुए थे. उन्होंने आसपास के पत्थरों को गिरते हुए देखा तो शोर मचाया और लोगों को भी आगाह किया साथ ही पड़ोस के मकान में रहने वाले लोगों को भी सूचित किया. पता चला है कि मकान में एक कर्मचारी रहता था, जो ड्यूटी के लिए दफ्तर जा चुका था. मौके पर प्रशासन का एक कर्मचारी भी पहुंचा था, जिसके सामने यह मकान गिरा है.



शिमला के कुसुमपट्टी में यह मकान गिरा है.
शिमला के कुसुमपट्टी में यह मकान गिरा है.




डीसी पहुंचे मौके पर

घटना की सूचना के बाद डीसी शिमला भी मौके पर पहुंचे और डीसी शिमला अमित कश्यप अपनी टीम के साथ घटना का जायजा लिया साथ ही जांच के आदेश दिए हैं. डीसी शिमला ने साथ लगते भवनों की भी नगर निगम शिमला से रिपोर्ट मांगी  है. वहीं, फ्लैट मालिक प्रेम प्रसाद पंडित का कहना है कि उन्होंने साल 2010 में फ्लैट खरीदा था, लेकिन आज जब यह भवन गिरा तो उसे सूचना मिली, उन्होंने भवन को हुए नुकसान के लिए भवन मालिक को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि वेल फर्निश्ड मकान कहकर मकान मालिक ने उन्हें फ्लैट बेचा है. 10 साल के भीतर ही मकान धराशायी हो जाएगा, यह उन्होंने नहीं सोचा था. उन्होंने इस मामले पर जांच करने की मांग की है.

शिमला में डराने वाली बारिश

शिमला में शुक्रवार को भारी बारिश और ओलावृष्टि हुई, जिससे शहरवासी सहम गए थे. बीते चौबीस घंटे में शिमला 74.4 एमएम बारिश रिकॉर्ड हुई है. भारी बारिश की वजह से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया तथा कई घरों में पानी घुस गया. दोपहर करीब ढाई बजे से साढ़े तीन बजे तक मुसलाधार बारिश और ओलावृष्टि हुई. जाखू समेत शहर के कई क्षेत्र ओलों की बरसात से सफेद हो गया. शिमला से सटे कुफरी, फागू व जुब्बड़हट्टी क्षेत्रों में भी जमकर बादल बरसे हैं.

बादल फटने जैसे हालात

प्री-मॉनसून में पहले इतनी तेज बारिश को अप्रत्याशित माना जा रहा है. बादल फटने जैसे हालात हो गए हैं. हालांकि, एक घंटे जब 100 एमएम से अधिक बारिश होती है तो उसे ही बादल फटना माना जाता है. शनिवार के लिए शिमला सहित 10 जिलों में भारी बारिश, ओलावृष्टि और बिजली गिरने का आरेंज अलर्ट की चेतावनी दी गई है.

शिमला में मकान गिरा.
शिमला में मकान गिरा.


हिमाचल में बारिश

शिमला में जहां 74.4 एमएम बारिश हुई है. वहीं, कुफरी में 59 एमएम पानी बरसा है. इसके अलावा, ऊना में 53 एमएम बारिश दर्ज हुई है. वहीं, दूसरे इलाकों में सोलन में 17.4, डहलौजी में 30, मंडी में 7.4 एमएम पानी बरसा है.

ये भी पढ़ें: सुसाइड या मर्डर! ऊना में पेड़ से लटकी मिली 38 साल की महिला की लाश

PHOTOS: मंडी के ‘सरदार जी’ ने अपनी 11 पगड़ियां कटवाईं, सिलवाए मास्क, फिर बांटे
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading