डिग्री मामला: हेरिटेज संस्थान को विनियामक आयोग ने दिया अल्टीमेटम
Shimla News in Hindi

डिग्री मामला: हेरिटेज संस्थान को विनियामक आयोग ने दिया अल्टीमेटम
शिमला में आयोग के दफ्तर पहुंचे स्टूडेंट्स.

आयोग के चेयरमैन मेजर जनरल अतुल कौशिक ने कहा कि संस्थान को बुधवार को छात्रों का पूरा रिकॉर्ड आयोग में लाने को कहा गया है. रिकॉर्ड जांच कर इस बात का पता लगाया जाएगा कि कितने छात्रों को डिग्रियाँ नहीं दी गई है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Shimla) के शिमला (Shimla) के हेरिटेज इंस्टीट्यूट ऑफ होटल एंड टूरिज्म की ओर से छात्रों को डिग्रियां (Degree) न देने के मामले में अब शिक्षण संस्थान विनियामक आयोग की ओर से संज्ञान लिया गया है. आयोग ने संस्थान को डिग्री देने के लिए 30 सितम्बर तक का समय दिया है. न्यूज-18 (News18) की खबर का असर हुआ है.

संस्थान की करीब 500 छात्रों की डिग्रियां न देने के चलते उनका भविष्य खतरे में पड़ चुका था. छात्र डिग्रियां लेने को लेकर ठोकरें खाने को मज़बूर थे. न्यूज़18 ने मामले को प्रमुखता से उठाया था. उसके बाद संस्थान के चेयरपर्सन को मीडिया के सामने आना पड़ा और कहा कि 30 सितंबर तक छात्रों को उनकी डिग्रियां दी जाएंगी.

आयोग को भी दी थी शिकायत
अब मामले में निजी शिक्षण संस्थान विनियामक आयोग ने संज्ञान लिया है. आयोग में छात्रों ने संस्थान के खिलाफ लंबे समय से शिकायत दी थी, लेकिन आयोग में चैयरमैन की नियुक्ति न होने के चलते मामले पर सुनवाई नहीं हो पा रही थी. अब आयोग में कुछ दिनों पहले चेयरमैन की नियुक्ति की गई है. नियुक्ति के बाद इन छात्रों की शिकायतों पर संज्ञान लिया गया है. आयोग के समक्ष मंगलवार को संस्थान के कर्मचारी उपस्थित हुए और उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए 30 सितंबर तक सभी छात्रों को उनकी डिग्रियां जारी करने की बात कही है.
नियामक आयोग के पास पहुंचे छात्र.




छात्रों का रिकॉर्ड भी मांगा
आयोग ने भी संस्थान को सभी छात्रों के रिकॉर्ड बुधवार को आयोग के सामने पेश करने के निर्देश जारी किये हैं. आयोग के चैयरमैन ने संस्थान के छात्रों को विश्वास दिलाया है कि 30 सितंबर तक उन्हें उनकी डिग्रियां जारी कर दी जाएंगी और अगर ऐसा नहीं होता है तो संबंधित संस्थान की मान्यता रद्द कर दी जाएगी। मंगलवार को छात्र भी आयोग के चेयरमैन मेजर जनरल अतुल कौशिक से मिलने पहुंचे थे. छात्रों ने उनके समक्ष अपनी पूरी समस्या रखी और बताया कि संस्थान से 2017 के पास आउट हुए हैं. अभी तक उन्हें उनका रिजल्ट और डिग्री नहीं दी गई हैं.

मेजर जनरल अतुल कौशिक, चेयरमैन, शिक्षण संस्थान विनियामक आयोग.


क्या बोले चेयरमैन
आयोग के चेयरमैन मेजर जनरल अतुल कौशिक ने कहा कि संस्थान को बुधवार को छात्रों का पूरा रिकॉर्ड आयोग में लाने को कहा गया है. रिकॉर्ड जांच कर इस बात का पता लगाया जाएगा कि कितने छात्रों को डिग्रियाँ नहीं दी गई है. उन्होंने कहा कि संस्थान की ओर से ये आश्वासन दिया गया है कि 30 सितंबर तक छात्रों को उनकी डिग्रियाँ दे दी जाएंगी, जिसका एफिडेविट भी संस्था से लिया जाएगा. वहीं अगर संस्थान छात्रों को डिग्रियाँ नहीं देता है तो कार्रवाई की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज