लाइव टीवी

हिमाचल: बर्फबारी से 297 सड़कें, 1102 ट्रांसफार्मर, 13 पेयजल योजनाएं ठप, 33 करोड़ की हानि

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: December 15, 2019, 2:26 PM IST
हिमाचल: बर्फबारी से 297 सड़कें, 1102 ट्रांसफार्मर, 13 पेयजल योजनाएं ठप, 33 करोड़ की हानि
लाहौल स्पीति में 134 सड़कें ऐसी हैं जो बर्फ के कारण बंद हो गई हैं और अब मार्च 2020 के अंत में ही खुलेंगी.

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में हिमपात (Snowfall) के चलते अभी भी 400 से ज्यादा सड़कें बाधित हैं, जबकि 600 से ज्यादा ट्रांसफार्मर बंद हैं.

  • Share this:
शिमला/धर्मशाला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के ऊपरी इलाकों में हिमपात (Snowfall) के बाद जनजीवन अभी तक पटरी पर नहीं लौट सकी है. ऊपरी क्षेत्रों में हुई बर्फबारी के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त है. हिमाचल में बंद पड़े मार्गों को बहाल करने का काम जारी है. रविवार को 12 बजे तक की स्टेटस रिपोर्ट सरकार को सौंप दी गई है. स्टेट्स रिपोर्ट के अनुसार अभी भी 4 नेशनल हाइवे और 297 सड़कें बाधित हैं. सड़कों और नेशनल हाइवे को बहाल करने के लिए 205 मशीनें तैनात की गई हैं. पूरे सूबे के कई इलाकों में बिजली व्यवस्था ठप हो चुकी है. प्रदेश में 1102 बिजली ट्रांसफार्मर ठप हो गया है. बर्फबारी के चलते 13 पेयजल योजनाएं भी प्रभावित हुई हैं. चंबा के पांगी और डल्हौजी में सबसे ज्यादा पेयजल योजनाएं प्रभावित हुई हैं. बर्फबारी के चलतते लोक निर्माण विभाग को अबतक 32 करोड़ 77 लाख का नुकसान हो चुका है.

मनाली-लेह नेशनल हाइवे के अलावा लाहौल स्पीति में ग्रांफू एनएच-505 भी भारी हिमपात के चलते बंद है. लाहौल स्पीति में 134 सड़कें ऐसी हैं जो बर्फबारी के कारण बंद हो गई हैं. ये अब मार्च 2020 के अंत में ही खुल सकेंगी. लाहौल स्पीति और रोहतांग दर्रा में बर्फबारी के कारण ये इलाके शेष दुनिया से पूरी तरह से कट गए हैं. यही हालात शिमला जिला के दुर्गम गांव डोडराक्वार का है. यह भी कट गया है.

सीएम जयराम ठाकुर ने प्रदेश में हिमपात के चलते उत्पन्न स्थिति की समीक्षा के लिए विधानसभा परिसर (धर्मशाला) में बीते शनिवार को वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की. उन्होंने अधिकारियों को सभी आवश्यक सेवाएं तुरंत बहाल करने के निर्देश दिए हैं.

जयराम ठाकुर ने कहा कि लोक निर्माण विभाग को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बर्फ के कारण बंद सभी प्रमुख सड़कों को तुरंत खोला जाए, ताकि लोगों को असुविधा का सामना न करना पड़े. सीएम ने बताया कि बर्फ के कारण बंद महत्वपूर्ण सड़कों को बहाल करने के लिए पर्याप्त संख्या में मशीनरी का इस्तेमाल किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि उन सड़कों को साफ करने को प्राथमिकता दी जानी चाहिए जो अस्पतालों जैसी आवश्यक सेवाओं तक ले जाती हैं.

Snowfall
हिमाचल प्रदेश में 600 से ज्यादा बिजली ट्रांसफार्मर इस वक्त बंद हैं, जिन्हें बहाल करने में बिजली विभाग के कर्मचारी जुटे हुए हैं.


बिजली व्यवस्था जल्द बहाल करने के आदेश

गौरतलब है कि हिमपात के कारण हिमाचल प्रदेश के कई इलाकों में बिजली व्यवस्था ठप है.   प्रदेश में 1102 से ज्यादा बिजली ट्रांसफार्मर इस वक्त बंद हैं, जिन्हें बहाल करने में बिजली विभाग के कर्मचारी जुटे हुए हैं. डोडराक्वार में भी 19 के करीब डीटीआर बंद पड़े हुए हैं. सीएम जयराम ठाकुर ने भी अधिकारियों के साथ बैठक कर बंद पड़े मार्गों और बिजली व्यवस्था को तुरंत पटरी पर लाने के निर्देश दिए हैं.ट्रैकिंग पर न जाने की अपील
सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि भारी बर्फबारी वाले क्षेत्रों में शीघ्र बिजली आपूर्ति बहाल किया जाना चाहिए, क्योंकि विभिन्न संचार सुविधाएं बिजली पर ही निर्भर करती हैं. उन्होंने भारत संचार निगम लिमिटेड के अधिकारियों को भी संचार सुविधाओं को शीघ्र बहाल करने निर्देश दिए हैं. सीएम ने सभी जिलों के डीसी को पर्यटकों और आम जनता से अधिक ऊंचाई वाले क्षेत्रों और ट्रैकिंग पर न जाने तथा बर्फ से ढकी सड़कों पर सावधानी से वाहन चलाने के संबंध में दिशा-निर्देश जारी करने को कहा है.

(इनपुट सहयोग: धर्मशाला से बिचित्र शर्मा)

यह भी पढ़ें: BREAKING: HRTC की बस पंचकुला में ट्रक से जा टकराई, पांच घायल

हिमाचल: भारी बर्फबारी से कमरूनाग व पराशर झील जमीं, जनजीवन अस्त व्यस्त

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 1:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर