Assembly Banner 2021

हिमाचल गतिरोध : बजट सत्र के 5वें दिन भी विपक्ष ने किया सदन की कार्यवाही का विरोध

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बाहर काली पट्टी लगाकर प्रदर्शन करता विपक्ष.

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बाहर काली पट्टी लगाकर प्रदर्शन करता विपक्ष.

पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि पक्ष और विपक्ष एक ही परिवार है और परिवार के अंदर कई बातें होती हैं. दोनों को एक-दूसरे के प्रति सहनशील होना चाहिए और यही हमारी परंपरा रही है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा (Himachal Pradesh Assembly) के बजट सत्र (Budget Session) के 5वें दिन भी सदन की कार्यवाही (Proceedings) विपक्ष (Opposition) के बिना चली. विपक्षी कांग्रेस विधायकों (Congress MLAs) ने 5 विधायकों के निलंबन (suspension) रद्द न होने, एफआईआर (FIR) वापस न लेने और डिप्टी स्पीकर के खिलाफ कार्रवाई न होने के विरोध में सदन की कार्यवाही का विरोध किया.

कांग्रेस विधायकों ने हाथों पर काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन किया

कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा के गेट के बाहर निलंबित सदस्यों के साथ हाथों पर काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन किया. मुंह पर भी काला मास्क पहन रखा था. सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक मौनव्रत धारण किया. इस बीच प्रदेश के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह भी गुरुवार को विधानसभा पहुंचे. अपने 5 विधायकों के निलंबन के विरोध में विधानसभा के बाहर धरना दिया. इस दौरान वह करीब एक घंटे तक धरनास्थल पर मौजूद रहे और बाद में वहां से चले गए.



भाजपा सरकार चाहती है कि स्थिति ऐसी ही बनी रहे : वीरभद्र
News18 से हुई एक्सक्लूसिव बातचीत में विधानसभा में चल रहे गतिरोध पर वीरभद्र सिंह ने कहा कि यह बहुत मामूली मामला है. अगर सरकार चाहती तो एक घंटे में ये मसला हल हो जाता. लेकिन भाजपा सरकार चाहती है कि यह स्थिति ऐसी ही बनी रहे.

निलंबन रद्द न होने की सूरत में धरना जारी रहेगा : पूर्व सीएम

पूर्व सीएम और दिग्गज कांग्रेस नेता वीरभद्र ने कहा कि पक्ष और विपक्ष एक ही परिवार है और परिवार के अंदर कई बातें होती हैं. दोनों को एक-दूसरे के प्रति सहनशील होना चाहिए और यही हमारी परंपरा रही है. उन्होंने कहा निलंबन रद्द न होने की सूरत में धरना जारी रहेगा. वहीं, सरकार को बातचीत करनी चाहिए, क्योंकि सदन चले और कार्यवाही हो, यह सरकार की जिम्मेवारी है.

राज्यपाल से माफी मांग लें तो गतिरोध दूर हो सकता है : सीएम

पूर्व सीएम के बयान पर सीएम जय राम ठाकुर ने ज्यादा कुछ नहीं कहा, लेकिन इतना जरूर कहा कि वीरभद्र सिंह के मुख्यमंत्री रहते उन्हें भी यहां से उठाकर बाहर कर दिया गया था. सीएम ने कहा विपक्ष ने जो किया वह कैमरे में कैद है. साथ ही कहा कि राज्यपाल से माफी मांग लें तो गतिरोध दूर हो सकता.

गतिरोध दूर करने की पहल सरकार करे : विपक्ष

सीएम के बयान पर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री और वरिष्ठ कांग्रेस विधायक आशा कुमारी ने एक बार फिर दोहराया कि गलती सरकार की है. सदन को चलाने की जिम्मेवारी सरकार की है. गतिरोध को दूर करने के लिए सरकार को पहल करनी होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज