लाइव टीवी

14 साल से ‘लापता’ फौजी बेटे को देखने के लिए तरसे मां-बाप, PM मोदी से भी लगाई थी गुहार

Reshma Kashyap | News18 Himachal Pradesh
Updated: October 22, 2019, 12:53 PM IST
14 साल से ‘लापता’ फौजी बेटे को देखने के लिए तरसे मां-बाप, PM मोदी से भी लगाई थी गुहार
शिमला: दंपति का बेटा 14 साल से घर नहीं लौटा है.

Missing Army Jawan: योगराज शिमला के संजौली के चलौंठी में रहते हैं. उनका बेटा परमजीत असम राइफल में भर्ती हुआ था.

  • Share this:
शिमला. माता-पिता की आंखें 14 साल से अपने बेटे को देखने के लिए तरस रही हैं. पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narender Modi), और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) से भी गुहार ले चुकी हैं, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. मामला हिमाचल की राजधानी शिमला (Shimla) का है. 14 साल से फौजी जवान (Army Jawan) लापता है. माता-पिता गुहार लगाने के बाद अब थक-हार कर न्यूज18 के पास पहुंचे और मदद की गुहार लगाई.

जानकारी के अनुसार, योगराज शिमला के संजौली (Sanjauli) के चलौंठी में रहते हैं. उनका बेटा परमजीत असम राइफल (Assam Rifle) में भर्ती हुआ. ट्रैनिंग के दौरान वह बीमार हो गया और उसे मुरादाबाद में अस्पताल में भर्ती करवाया गया. इसके बाद जब पर ठीक हुआ तो ट्रैनिंग में लौटा. एक दिन वह एस्कोर्ट पार्टी के साथ जा रहा था तो लापता हो गया. तब से अब तक 14 साल हो गए हैं, लेकिन परमजीत का कोई पता नहीं चला.

लापता परमजीत सिंह. (FILE Photo)
लापता परमजीत सिंह. (FILE Photo)


पीएम नरेंद्र मोदी को भी लिखा पत्र

परमजीत के पिता योगराज ने बताया कि बेटे की तलाश में दर-दर की ठोकरें खा रहें है. कहीं से कोई उम्मीद नहीं मिल रही है. योगराज का कहना है कि उन्होंने पुलिस में भी इस बारे में शिकायत की है, लेकिन पुलिस से भी उन्हें निराशा ही मिली है. इसके बाद उन्होंने मुरादाबाद हाईकार्ट में याचिका भी दायर की है, लेकिन बेटे का कोई पता नहीं चल पा रहा है. बेटे की तलाश के लिए योगराज पुलिस से लेकर प्रधानमंत्री से मद्द के लिए गुहार लगाई. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पूर्व गृहमंत्री राजनाथ सिंह को भी पत्र लिखकर अपनी व्यथा बताई.

लापता बेटे के बारे में पिता ने पीएम को भी चिट्टी लिखी थी.
लापता बेटे के बारे में पिता ने पीएम को भी चिट्टी लिखी थी.


मृत घोषित करने के बाद नहीं मिल रही पेंशन
Loading...

असम राइफल ओर से परमजीत को मृत घोषित कर दिया गया है, लेकिन मृत घोषित करने के बाद उनके परिवार को अभी तक किसी भी तरह की पेंशन और आर्थिक सहायता नहीं दी जा रही है. योगराज का परिवार उनके बेटे परमजीत की वजह से ही चल रहा था. ऐसे में अब उन्हें आर्थिक रूप से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें: हिमाचल में अब पंचायत उपचुनाव का बजा डंका, ये है शेड्यूल

हिमाचल में मौसम: पहाड़ों में आज बर्फबारी और मैदानों में बारिश के आसार

हिमाचल: सरकारी स्कूल में रैगिंग, 7 स्टूडेंट्स सस्पेंड

जंजैहली में शूटिंग: बॉलीवुड एक्टर यशपाल शर्मा ने लिया पहाड़ी व्यंजनों का स्वाद

कुल्लू में 5 बीघा भूमि पर की चरस की अवैध खेती, दो लोगों पर FIR

हिमाचल उपचुनाव: नहीं टूट पाया 2017 का रिकॉर्ड, 69 फीसदी मतदान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 12:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...