Assembly Banner 2021

बजट सत्र: रद्द हो सकता है कांग्रेसी विधायकों का निलंबन, CM बोले-गलती स्वीकार करें

हिमाचल विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे विधायक.

हिमाचल विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे विधायक.

Himachal Assembly Budget Session: हिमाचल बजट सत्र का आज तीसरा दिन है. दूसरे दिन निलंबित विधायकों ने सदन के गेट पर धरना दिया और सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र (Budget Session) का सोमवार को दूसरा दिन था. पहले दिन हुई घटना के चलते नेता प्रतिपक्ष समेत कांग्रेस के 5 विधायक निलंबित किए गए हैं, इन सभी निलंबित सदस्यों ने विधानसभा के गेट के बाहर धरना दिया. कार्यवाही समाप्त होने के बाद अन्य विपक्षी सदस्य भी धरने में शामिल हुए. माकपा के विधायक राकेश सिंघा भी धरने में मौजूद रहे. सूत्रों के मुताबिक, इन विधायकों का निलंबन रद्द हो सकता है. ये निलंबन सर्शत रद् हो सकता है.

जानकारी के अनुसार, राज्यपाल के साथ विधानसभा अध्यक्ष, सत्ता पक्ष और विपक्ष के मुखिया के बीच वार्ता संभव है, उसके बाद ये निलंबन रद्द हो सकता है. मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने भी इसके संकेत दिए हैं. उन्होंने कहा कि विपक्षी विधायकों को अपनी गलती स्वीकार कर लेनी चाहिए. इससे पहले भी विधानसभा के इतिहास में सदस्यों का निलंबन वापस लिया गया है. विधानसभा का बजट सत्र सबसे महत्वपूर्ण सत्र होता है. इसको देखते हुए भी विपक्षी विधायकों पर नरमी बरती जा सकती है.

ये बोले सीएम
सीएम ने कहा कि जो कुछ भी हुआ, वो सबके सामने हुआ. उस घटना की वीडियो भी सभी ने देखी हैं. उन्होंने कहा कि नेताओं का घेराव करना माना जा सकता है लेकिन राज्यपाल के साथ इस तरह का व्यवहार की इजाजत कानून भी नहीं देता. गिरफ्तारी को लेकर उन्होंने कहा कि एसआईटी इस पर काम कर रही है, कानून के अनुसार कार्रवाई अमल में लाई जा रही है. निलंबन वापसी के सवाल पर सीएम ने मुस्कुराते हुए कहा कि अब तक हमारे पास इस तरह की खबर नहीं आई है.
विपक्ष के आरोप



गेट के बाहर धरने पर बैठे निलंबित सदस्यों ने सरकार के खिलाफ आज भी जमकर हल्ला बोला. कांग्रेस विधायकों ने दिवंगत विधायक सुजान सिंह पठानिया को धरना स्थल पर ही श्रद्धांजलि दी. इस दौरान नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि सरकार लोकतंत्र का गला घोंट रही है. उन्होंने कहा कि सीएम जय राम ठाकुर ने ये पूरा तांडव रचा है, जय राम ठाकुर ही मास्टर माइंड हैं. साथ ही कहा कि नियमों का उल्लंघन कर स्थगित सदन से सदस्यों निलंबन करार दिया. उन्होंने कहा कि हमें रोकने के लिए सरकार ने 90 मार्शल लगाए हैं. मुकेश अग्निहोत्री ने सीएम को अहंकारी बताया और अब सीएम खुद को सम्राट मान रहे हैं. नेता प्रतिपक्ष ने राज्यपाल के अभिभाषण को कचरा करार दिया.

दिवंगत पूर्व विधायकों को दी गई श्रद्धांजलि

बजट सत्र के दूसरे दिन सदन ने दिवंगत पूर्व विधानसभा सदस्यों को श्रद्धांजलि दी. सीएम ने शोकोद्गार किया. पूर्व विधायक मेला राम, रणजीत सिंह बख्शी, कुमारी श्यामा शर्मा, चंद्रसेन ठाकुर,ओंकार चंद, रघुराज, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष तुलसी राम और सिटिंग एमएलए सुजान सिंह पठानिया के निधन पर सदन में शोक प्रकट किया गया. विपक्षी सदस्यों ने भी शोकोद्गार में खुद को शामिल किया. साथ ही पूर्व सीएम शांता कुमार की पत्नी के निधन पर भी शोक व्यक्त किया गया.

चमौली और किसान आंदोल में मारे गए लोगों के प्रति शोक

चमौली में मारे गए 10 हिमाचलियों के प्रति भी सदन में संवेदनाएं प्रकट की गईं. सीएम ने सदन में जानकारी दी कि उत्तराखंड सरकार ने सभी लापता लोगों को मृत घोषित किया है. विपक्षी सदस्यों ने भी शोक प्रकट किया और साथ ही किसान आंदोलन में मारे गए 200 से ज्यादा लोगों के प्रति भी संवदेनाएं प्रकट कीं. उसके बाद परंपरा के अनुसार सिटिंग सदस्य की मौत के चलते सदन को अगले दिन तक सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज