Assembly Banner 2021

हिमाचल बजट सत्र: तीसरे दिन भी हंगामा, विक्रमादित्य-डिप्टी स्पीकर में बहस, कांग्रेस का वॉकऑउट

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बाहर कांग्रेस विधायक.

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के बाहर कांग्रेस विधायक.

Himachal Assembly Budget Session Live: हिमाचल प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र का मंगलवार को तीसरा दिन है. आज भी सदन में हंगामा हो रहा है. सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच जमकर हुई नारेबाजी.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा (Himachal Pradesh Vidhansabha) के बजट सत्र के तीसरे दिन का आगाज भी हंगामे के साथ हुआ है. सदन की कार्यवाही 11 बजे शुरू हुई और इस दौरान कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह  (Vikramaditya Singh) और डिप्टी स्पीकर हंसराज (Deputy Speaker Hans Raj) में जमकर तू-तू मैं-मैं हुई है. सदन के भीतर ही जमकर बहसबाजी के बाद विपक्षी विधायकों ने बीच बचाव है. बाद में कांग्रेस ने सदन से वॉकऑउट कर दिया है.

कार्यवाही के दौरान संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने सदन में कहा कि वाद-विवाद से लोकतंत्र चलता है लेकिन विपक्ष का व्यवहार सही नहीं. उन्होंने कहा कि विपक्ष को राज्यपाल से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए. वहीं, प्रश्नकाल से पहले कांग्रेस विधायक सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने प्वाइंट ऑफ ऑर्डर के तहत अपनी बात रखते हुए कहा कि पहले दिन की घटना दुर्भाग्यपूर्ण थी. कांग्रेस संवैधानिक पदों का सम्मान करती है. कैबिनेट मंत्री सुरेश भारद्वाज ने धक्का दिया था और कांग्रेस विधायकों का निलंबन गैरकानूनी है. सुक्खू ने कहा कि निलंबन रद्द नहीं हुआ तो सदन की कार्यवाही चलने नहीं दी जाएगी.

क्या बोले सीएम जयराम ठाकुर


इस दौरान स्पीकर ने डिप्टी स्पीकर हंसराज को बोलने की इजाजत दी तो विपक्ष भड़क गया. दोनों पक्षों के बीच जमकर नारेबाजी हुई और नारेबाजी करते हुए विपक्ष सदन से बाहर निकल गया. इस दौरान सीएम जयराम ठाकुर ने भी सदन में अपनी बात रखी और बोले कि डिप्टी स्पीकर का विपक्ष ने भी अपमान किया है और उनके पोस्टर लगाए और सोशल मीडिया में डाले गए हैं. राज्यपाल की उम्र का भी ख्याल नहीं रखा गया. हमने आंखों से देखा किसने धक्का दिया?



कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह और डिप्टी स्पीकर हंस राज.

एडीसी को धक्का दिया


राज्यपाल के एडीसी को धक्का किसने दिया, मैंने देखा. राज्यपाल के साथ मैं था, कितनी बार मैंने सहारा दिया. वहीं, डलहौजी से कांग्रेस विधायक आशा कुमारी ने कहा कि सदन में सरकार गलत तथ्य पेश कर रही है. घटना की वीडियो रिकॉर्डिंग विधानसबा में चलाई जाए. बता दें कि सत्र में 17 बैठकें होंगी और 20 मार्च तक सत्र चलेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज