हिमाचल बजट सत्र: कर्ज की सीमा बढ़ानी चाहती है BJP सरकार, कांग्रेस ने किया वॉकआउट

कांग्रेस ने हिमाचल विधानसभा से एक बार फिर से वॉकआउट किया है.

कांग्रेस ने हिमाचल विधानसभा से एक बार फिर से वॉकआउट किया है.

Himachal Assembly Budget Session Live: हिमाचल विधानसभा का बजट सत्र की गुरुवार को 18वीं बैठक थी. 20 मार्च तक यह सत्र चलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 2:26 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश की भाजपा सरकार (BJP Govt) कर्ज लेने की सीमा बढ़ाना चाहती है. इस संबंध में गुरुवार को हिमाचल विधानसभा के बजट सत्र (Budget Session) में विरोध और हो-हल्ला हुआ. दरअसल, भाजपा सरकार कर्ज (Loan) की सीमा तीन से बढ़ाकर पांच प्रतिशत करना चाहती है, लेकिन विपक्ष ने इसका विरोध किया. गुरुवार को सदन में विधेयक पर चर्चा के दौरान कांग्रेस विधायकों ने हंगामा कर दिया.

सीपीआईएम विधायक राकेश सिंघा, नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, किन्नौर से कांग्रेस विधायक जगत सिंह नेगी, शिलाई से कांग्रेस विधायक हर्षवर्धन सिंह, डलहौजी की कांग्रेस विधायक आशा कुमारी ने इस विधेयक को पारित करने के प्रस्ताव का विरोध किया. सदन में सत्तापक्ष और विपक्ष में खूब नोकझोंक होती रही.

विपक्ष ने किया विरोध

नेता विपक्ष विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने आरोप लगाया कि सरकार हिमाचल को कर्ज में झोंक रही है, यह हिमाचल की जनता से न्याय नहीं है. कर्ज लेकर व्यवस्था चलाई जाएगी, लोगों पर कर का बोझ डाला जाएगा. विपक्ष के इन सदस्यों ने इसे काले कानून की संज्ञा दी. इसके बाद कांग्रेस विधायकों ने वॉकआउट कर लिया. वॉकआउट के बाद नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि कर्ज की लिमिट डबल करने का कानून बर्दाश्त नहीं होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि स्पीकर इस संशोधन विधेयक को सिलेक्ट कमेटी को भेंजे. कानून वापस लेकर सेलेक्ट कमेटी को भेजा जाए. हिमाचल सरकार का सारा मंत्रिमंडल दिल्ली में केंद्र सरकार से एक मुश्त हिमाचल के कर्ज को माफ करने की मांग उठाए.
क्या बोले मंत्री

कैबिनेट में शामिल शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि अगर कर्ज से ज्यादा खर्च हो जाता है तो विधानसभा से उसे पारित करना होता है. हिमाचल का अपना अधिनियम है और यह एक तकनीकी मामला है. सुरेश भारद्वाज ने कहा कि हम कांग्रेस की गलती को सुधार रहे हैं. कांग्रेस ने प्रदेश को कर्ज में डुबोया है. बता दें दिवंगत सांसद रामस्वरूप शर्मा के निधन के चलते सीएम समेत कैबिनेट के कई मंत्री आज सत्र में मौजूद नहीं थे. सभी सांसद के अंतिम संस्कार में शामिल हुए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज