अपना शहर चुनें

States

हिमाचल चुनाव: कांग्रेस के इन पांच मौजूदा मंत्रियों को मिली हार

दरअसल राष्ट्रीय पार्टियों के बीच वोट के बंटने के कारण स्वतंत्र उम्मीदवार ज्यादा प्रभावशाली नजर आ रहे हैं. कांग्रेस सत्ता में है सो उसे एंटी-इन्कम्बेंसी से जूझना है. एनपीपी, बीजेपी तथा यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी कांग्रेस को सत्ता से बाहर करने के लिए जीन-जान से जुटी हुई हैं. ऐसे में राजनीति के पर्यवेक्षकों को मानना है कि स्वतंत्र उम्मीदवार तथा छोटी क्षेत्रीय पार्टियां मेघालय का राजनीतिक भविष्य तय करने में अहम भूमिका निभाएंगी.
दरअसल राष्ट्रीय पार्टियों के बीच वोट के बंटने के कारण स्वतंत्र उम्मीदवार ज्यादा प्रभावशाली नजर आ रहे हैं. कांग्रेस सत्ता में है सो उसे एंटी-इन्कम्बेंसी से जूझना है. एनपीपी, बीजेपी तथा यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी कांग्रेस को सत्ता से बाहर करने के लिए जीन-जान से जुटी हुई हैं. ऐसे में राजनीति के पर्यवेक्षकों को मानना है कि स्वतंत्र उम्मीदवार तथा छोटी क्षेत्रीय पार्टियां मेघालय का राजनीतिक भविष्य तय करने में अहम भूमिका निभाएंगी.

हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव का इस बार का परिणाम कई बातों को लेकर ऐतिहासिक रहा. लेकिन सबसे बड़ी बात जो इस चुनाव में हुई, वो कि मौजूदा सरकार के चार मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा. प्रदेश की जनता ने कहीं ना कहीं बुजुर्ग नेताओं को नकार दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2017, 9:10 PM IST
  • Share this:
हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव का इस बार का परिणाम कई बातों को लेकर ऐतिहासिक रहा. लेकिन सबसे बड़ी बात जो इस चुनाव में हुई, वो कि मौजूदा सरकार के पांच मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा. प्रदेश की जनता ने कहीं ना कहीं बुजुर्ग नेताओं को नकार दिया.

बल्ह से प्रकाश चौधरी हारे
मंडी की बल्ह सीट से बीजेपी के इंद्र सिंह ने जीत दर्ज़ की है. उन्होंने कांग्रेस के कद्दावर नेता और मौजूदा आबकारी और कराधान मंत्री प्रकाश चौधरी को मात दी. चौधरी सीएम वीरभद्र के ख़ास माने जाते हैं. इंद्र सिंह को 34704 वोट मिले. वहीं प्रकाश चौधरी को 21893 वोट मिले.

द्रंग से कौल सिंह को मिली मात
मौजूदा स्वास्थ्य मंत्री और आठ बार के विधायक कौल सिंह को द्रंग विधानसभा क्षेत्र से जवाहर सिंह ठाकुर को जीत मिली है. जवाहर ठाकुर को 31392 वोट मिले. जबकि कौल सिंह ठाकुर को 24851 वोटों से संतोष करना. तीसरे नंबर पर रहे पूरण चंद को 7672 वोट जनता ने दिए. कहीं न कहीं कौल सिंह की हार का कारण पूरण चंद ही रहे.



धर्मशाला से सुधीर शर्मा को पराजय मिली
हिमाचल प्रदेश की दूसरी राजधानी धर्मशाला से कांग्रेस के कद्दावर नेता और मौजूदा शहरी विकास मंत्री सुधीर शर्मा को हार मिली. उन्हें बीजेपी के किशन कपूर ने हराया. किशन कपूर और उनका आंसू बहाना काम आ गया. शुरुआती दौर में उन्हें बीजेपी टिकट भी नहीं दे रही थी, लेकिन बाद में उनके नाम का ऐलान हुआ. बीजेपी के किशन कपूर को 26050 वोट पड़े, वहीं दूसरे नंबर पर रहे सुधीर शर्मा को 23053 वोटों से संतोष करना पड़ा.

चंबा के भरमौर से वन मंत्री भरमौरी हारे
चंबा की भरमौर सीट पर भी कांग्रेस प्रत्याशी को हार मिली. यहां से मौजूदा मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी को हार का सामना करना पड़ा. उन्हें बीजेपी के जिया लाल ने मात दी. जिया लाल को 25744 वोट पड़े, जबकि भरमौरी को 18395 वोट पड़े और हार का सामना करना पड़ा.

नगरोटा से जीएस बाली को भी हार मिली
कांगड़ा के नगरोटा सीट से जीएस बाली को हार का सामना करना पड़ा है. वह एक हजार मतों हार गए हैं. उन्हें बीजेपी के अरुण कुमार से मात मिली है. बता दें कि बाली मौजूदा सरकार में परिवहन मंत्री थे. इससे पहले भी वो कांग्रेस सरकार में मंत्री रह चुके हैं. उन्हें कांग्रेस का कद्दावर नेता माना जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज