• Home
  • »
  • News
  • »
  • himachal-pradesh
  • »
  • Monsoon Session: हिमाचल विधानसभा में गूंजा करुणामूलक आश्रितों को नौकरी का मुद्दा

Monsoon Session: हिमाचल विधानसभा में गूंजा करुणामूलक आश्रितों को नौकरी का मुद्दा

हिमाचल प्रदेश विधानसभा ने सोमवार को दो मौजूदा और तीन पूर्व विधायकों को श्रद्धांजलि दी गई है.  (FILE PHOTO)

हिमाचल प्रदेश विधानसभा ने सोमवार को दो मौजूदा और तीन पूर्व विधायकों को श्रद्धांजलि दी गई है. (FILE PHOTO)

Himachal Monsoon Session: विधानसभा में मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के पास करुणामूलक मूलक आधार पर 2779 मामले लंबित हैं, सभी विभागों को नीति के अनुरूप प्राथमिकता के आधार पर पदों को भरने के निर्देश दिए गए हैं.

  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा मॉनसून सत्र के पांचवें दिन सदन में करुणामूलक आश्रितों को एकमुश्त नौकरी देने का मामला उठा. नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री, विधायक प्रकाश राणा, इंद्र दत्त लखनपाल, पवन कुमार काजल, रामलाल ठाकुर ने सरकार से पूछा कि करुणामूलक आश्रितों को सरकार कब तक नौकरी दे देगी. साथ ही भर्तियों में 5% आरक्षण को बढ़ाने और एकमुश्त नौकरी देने को लेकर सरकार क्या कदम उठा रही है? इसके जवाब में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बताया कि मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन करके सभी पहलुओं का अध्ययन किया जाएगा कि क्या एकमुश्त इन्हें नौकरी दी जा सकती है? कुछ मामले कोर्ट में भी चल रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के पास करुणामूलक मूलक आधार पर 2779 मामले लंबित हैं. सभी विभागों को नीति के अनुरूप प्राथमिकता के आधार पर पदों को भरने के निर्देश दिए गए हैं. जनवरी 2018 से 31,1,2021 तक करुणामूलक आधार पर प्रदेश के विभिन विभागों में कुल 706 नियुक्तियां दी गईं. करुणामूलक आधार पर प्रदान की गई नियुक्ति जो कि तृतीय श्रेणी में 272, चतुर्थ श्रेणी 434 कुल 706 नियुक्तियां की गई हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा में आश्रितों को लेकर सरकार ने उनकी हितों को देखते हुए 7 मार्च 2019 को संशोधित नीति जारी की है.

शिमला-मटौर फोरलेन का मामला भी आया
प्रश्नकाल के दौरान कांग्रेस विधायक सुखविंदर सिंह सूक्खू ने पूछा कि शिमला-मटौर फोरलेन परियोजना 4 लेन होगी या कुछ जगह टू लेन प्रस्तावित है? जवाब में मुख्यमंत्री ने सदन में बताया कि सड़क की कुल 233 किलोमीटर लंबाई है. सड़क को 6 पैकेज में बांटा गया है. भंगवार से कांगड़ा 4 लेन,जवालामुखी से भंगवार और हमीरपुर से ज्वालामुखी,भगेड़ से हमीरपुर 2 लेन, जबकि शालाघाट इसे नौणी चौक बिलासपुर और शिमला से शालाघाट बाकी डीपीआर तैयार की जा रही है, जिसे लेन से 4 लेन के रूप में अंतिम रूप दिया जाना शेष है.

सरकार ने मामले को केंद्र सरकार के साथ पूरी जोर से रखा है और सड़क को 4 लेन ही करने की मांग की. लेकिन 4 लेन के कुछ पैरामीटर होते हैं. जैसे कितना ट्रैफिक फॉलो इस सड़क में होगा. जिसको लेकर विशेषज्ञ ने स्टडी किया है और तय किया गया है. जिस भाग में ट्रैफिक ज्यादा है, वंहा फोरलेन, जबकि कम ट्रैफिक वाली जगह में टू लेन रखा जाए. टेंडर प्रक्रिया इसमे पूरी की जा चुकी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज