होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

मॉनसून सत्र: विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव गिरा, बोलने का मौका नहीं दिया तो किया वॉकआउट

मॉनसून सत्र: विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव गिरा, बोलने का मौका नहीं दिया तो किया वॉकआउट

सदन की कार्यवाही शुरू होने पर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने चर्चा का आगाज किया.

सदन की कार्यवाही शुरू होने पर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने चर्चा का आगाज किया.

Himachal Assembly Monsoon Session: सीएम ने कहा विपक्ष केवल मीडिया की सुर्खियां बटोरने के लिए अविश्वास प्रस्ताव लेकर आया है. कर्ज को लेकर सीएम ने कहा कि विपक्षी सदस्यों को कर्ज की स्थिति को लेकर तथ्यों पर बोलना चाहिए. सीएम ने कहा कि कांग्रेस ने 2017 में जब सत्ता छोड़ी तो प्रदेश पर 48 हजार करोड़ का कर्ज था,

अधिक पढ़ें ...

शिमला. हिमाचल प्रदेश में जय राम सरकार के आखिरी मॉनसून सत्र के दूसरे दिन भी जमकर हंगामा बरपा. संख्या बल न होने के बावजूद विपक्ष मंत्रिमंडल के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लेकर आया था, जिस पर गुरुवार सुबह 11 बजे चर्चा शुरू हुई. चर्चा की शुरू से लेकर अंत तक सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर नोंक-झोंक हुई. मुख्यमंत्री के चर्चा के जबाव देने से ठीक पहले विपक्ष ने वॉकआउट कर दिया. मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने ये कहकर सदन से वॉकआउट किया कि उनके कई सदस्यों को बोलने नहीं दिया जा रहा. इस दौरान सरकार के खिलाफ सदन में नारेबाजी करते हुए विपक्ष ने वॉकआउट किया. सत्ता पक्ष की ओर से भी नारेबाजी की गई. विपक्ष पर मुख्यमंत्री से लेकर अन्य मंत्रियों ने जमकर पलटवार किया.

सुबह सदन की कार्यवाही शुरू होने पर नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने की चर्चा का आगाज किया. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि पूरे प्रदेश में  हाहाकार मचा हुआ है, अराजकता माहौल है सरकार की नीतियों के खिलाफ लाखों लोग सड़कों पर हैं. उन्होंने कहा कि जयराम सरकार पूरी तरह से विफल है और सरकारी मशीनरी फेल हो गई है. सीएम अपने पूरे मंत्रिमंडल समेत कुर्सी छोड़ दें. इस पर सत्ता पक्ष की ओर से भी हमला बोला गया. सत्ता पक्ष और विपक्षी सदस्यों के बीच जमकर नोंक-झोंक हुई.

हंगामे के बीच नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सीएम समेत अन्य सभी मंत्री महंगाई और बेरोजगारी पर एक शब्द नहीं बोलते,  बेरोजगारी चरम सीमा पर है चोर दरवाजे से भाजपा के लोगों की भर्तियां की जा रही हैं. विपक्ष ने फिजुलखर्ची, कर्ज, कानून-व्यवस्था, पुलिस भर्ती पेपर लीक मामले और मुख्य सचिव को हटाने के मुद्दे पर सरकार को जमकर घेरा. इस पर सीएम ने पलटवार करते हुए कहा कि विपक्ष जो भी कह रहा है वो झूठ का पुलिंदा है, सभी आरोप निराधार है और तथ्यों से परे हैं.

क्या बोले सीएम जयराम ठाकुर

सीएम ने कहा विपक्ष केवल मीडिया की सुर्खियां बटोरने के लिए अविश्वास प्रस्ताव लेकर आया है. कर्ज को लेकर सीएम ने कहा कि विपक्षी सदस्यों को कर्ज की स्थिति को लेकर तथ्यों पर बोलना चाहिए. सीएम ने कहा कि कांग्रेस ने 2017 में जब सत्ता छोड़ी तो प्रदेश पर 48 हजार करोड़ का कर्ज था. कांग्रेस के 5 साल कार्यकाल में कर्ज लेने में 67% की बढ़ौतरी हुई. उन्होंने कहा कि  वर्तमान में हिमाचल पर 64,904 का कर्ज है और अब तक इस कार्यकाल में कर्ज लेने की वृद्धि दर 35%  है.संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने भी विपक्ष पर जमकर निशाने साधे. कांग्रेसी विधायकों ने भी जबावी हमले किए. अविश्वास प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जबाव मुख्यमंत्री ने विपक्ष की गैर मौजूदगी में दिया. इसके बाद इस प्रस्ताव सदन ने अस्वीकार कर दिया.

Tags: Himachal Congress, Himachal pradesh, Shimla News

अगली ख़बर