यूनियन बजट-2019: हिमाचल के CM जयराम ने सराहा, कांग्रेस ने कहा-निराशाजनक

Union Budget 2019 : हिमाचल के उद्योग जगत ने भी बजट पर निराशा जताई है. बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ उद्योग संघ के अध्यक्ष शैलेश अग्रवाल ने कहा कि सरकार का ‘टैक्स पर टैक्स’ लगाना गलत है.

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 5, 2019, 4:53 PM IST
यूनियन बजट-2019: हिमाचल के CM जयराम ने सराहा, कांग्रेस ने कहा-निराशाजनक
हिमाचल के सीएम जयराम ठाकुर और कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर.
Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: July 5, 2019, 4:53 PM IST
मोदी सरकार पार्ट-2 का पहला बजट वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में पेश किया. सीएम जयराम ठाकुर ने बजट को संतुलित और देश को आगे बढ़ाना वाला बताया. न्यूज 18 हिमाचल के साथ खास बातचीत में सीएम जयराम ठाकुर ने पीएम मोदी, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर को भी नए बजट पर बधाई दी. उन्होंने कहा कि यह नई पहलों के साथ इस बजट को पेश किया गया है. बजट में 6 दशमलव 3 प्रतिशत की वृद्धि की गई है. महंगाई दर 4 प्रतिशत से कम होकर 3 प्रतिशत पर आई, जो अच्छी शुरूआत है.

गांव में बसता है भारत
भारत गांव में रहता है ऐसे में मनरेगा योजना में बजट बढ़ाया गया है. 9 प्रतिशत बढ़ौतरी की गई है. पहले इसी योजना को लेकर विपक्षी सवाल उठाते थे कि मोदी आएंगे तो मनरेगा खत्म करेंगे. वहीं 59 मिनट में लोन देने की सुविधा की घोषणा का भी सीएम जयराम ठाकुर ने स्वागत किया.

जीरो बजट प्राकृतिक खेती पर बोले

हिमाचल में शुरू की गई जीरो बजट प्राकृतिक खेती के कान्सेप्ट को देश के बजट में शामिल करने पर सीएम जयराम ठाकुर ने खुशी जताई. उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष ही हिमाचल ने इस योजना की शुरूआत की थी और 25 करोड़ का बजट रखा था. इस दिशा में राज्यपाल आचार्य देवव्रत के प्रयासों की मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने तारीफ की.

यह सोचने का तरीका की बिना टैक्स हो बजट
पेट्रोल- डीजल में सैस लगाने पर सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि यह सोचने का तरीका बन गया है कि बजट बिना टैक्स का हो. यूरोपियन देशों में 42 प्रतिशत टैक्स लगते हैं. जर्मनी और नीदरलैंड के दौरे के दौरान भी मैंने यह देखा. वो टैक्स पूरी तरह से आधारभूत ढांचा विकसित करने में प्रयोग किया जाता है, जो शिक्षा, सड़क सहित विकास के लिए प्रयोग होता है. भारत में विकास की जरूरत है इसलिए सबकी छोटी-छोटी भागीदारी होनी चाहिए, तभी विकास होगा. बेशक, इससे भार पड़ता है, लेकिन सबमें देने का भी स्वभाव होना चाहिए.
Loading...

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती का बयान
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि आज देश के हित का बजट पेश किया गया है. किसान, गांव का गरीब, शहर के गरीब व्यक्ति के लिए राहत दी गई है. जो व्यक्ति समाज के लिए दे सकता है, उससे लेकर समाज को आगे बढ़ाने की कोशिश की गई है. संतुलित बजट है. मोदी सरकार ने पिछले पांच वर्षों तक भी गांव और गरीब की चिंता की है. उन्होंने कहा कि यह बजट देश को आगे बढ़ाने वाला है, जिस ढर्रे पर देश चल रहा है उस पर न चलकर देशहित में काम करने की जरूरत पर बल दिया गया है.

ये बोले कांग्रेस अध्यक्ष राठौर
हिमाचल प्रदेश कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने केंद्रीय आम बजट को दिशाहीन बजट करार दिया और आरोप लगाया कि बजट में केंद्र सरकार ने एक बार काल्पनिक उड़ान भरी है. बजट की सभी योजनाएं हवा-हवाई है. कुलदीप राठौर ने कहा कि पहाड़ी राज्यों के लिए बजट में अलग से कोई भी प्रावधान नहीं है, जिससे पहाड़ी राज्यों के हाथ आम बजट से निराशा हाथ लगी है. कुलदीप राठौर ने कहा कि आम बजट में पहाड़ी राज्यों की अनदेखी हुई है और रेल बजट में भी पहाड़ी राज्यों के साथ यही होगा.

इंडस्ट्री में निराशा
हिमाचल के उद्योग जगत ने भी बजट पर निराशा जताई है. बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ उद्योग संघ के अध्यक्ष शैलेश अग्रवाल ने कहा कि सरकार का ‘टैक्स पर टैक्स’ लगाना गलत है. डीजल और पेट्रोल पर एक रुपये सेस उद्योगपतियों और आम लोगों के लिए गलत है. इस वजह से महंगाई बढ़ेगी. क्योंकि गाड़ियों के मालवाड़े में बढ़ावा मिलेगा. कच्चे माल की ढुलाई का किराया बढ़ेगा और इसके बाद उत्पादन कॉस्ट भी बढ़ेगी. शैलेश अग्रवाल ने कहा कि स्मॉल स्केल इंडस्ट्री को हालांकि, कुछ मिला नहीं है. केवल इसका बजट में जिक्र किया गया.

ये भी पढ़ें: दिशाहीन है आम बजट-2019, अधिकतर योजनाएं हवा-हवाई: कांग्रेस

बजट-19: पैट्रोल-डीजल पर सेस, हिमाचल उद्योग जगत बोला-गलत फैसला

Budget-19: क्या हिमाचल की इन उम्मीदों को पूरा करेंगे अनुराग?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 5, 2019, 4:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...