Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    बिहार में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन पर बोले MLA विक्रमादित्य- जनता के नकारे पार्टी नेताओं को ना मिले शीर्ष पद

    हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह.
    हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह.

    Himachal Congress MLA Vikramditya Singh on Bihar Election: विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि हमें समझना होगा कि देश और प्रदेश की स्थितियां दिन प्रतिदिन बदलती जा रही है और इन्हीं परिस्थितियों में हमें अपने आपको बदल कर “री-इन्वेंट” करने की आवश्यकता है

    • News18Hindi
    • Last Updated: November 12, 2020, 1:53 PM IST
    • Share this:
    शिमला. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन पर पार्टी विरोधी आवाजें उठनी लगी है. हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक और पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह ने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर अप्रत्यक्ष तौर पर सवाल उठाए हैं. विक्रमादित्य सिंह ने कहा है कि पार्टी को बदलाव करना होगा और जनता के नकारे हुए नेताओं को शीर्ष पदों पर नहीं सौंपने चाहिए.

    और क्या बोले विक्रमादित्य सिंह
    विक्रमादित्य ने कहा लकि हम दिल से चाहते हैं कि कांग्रेस पार्टी पुनः मज़बूत हो और फिर से देश को उस सुनहरे युग की ओर लेकर जाए. कांग्रेस पार्टी का देश और हर राज्य में एकछत्र राज हुआ करता था. लेकिन अब फिर से इसके लिए हमें कुछ कठोर क़दम उठाने चाहिए, जिसके लिए हम हमारी आला कमान से ज़रूर निवेदन करेंगे. बता देें कि बिहार में कांग्रेस को महज 19 सीटों पर जीत मिली है.

    पार्टी के गिरते प्रदर्शन पर जताई चिंता
    विक्रमादित्य सिंह ने पार्टी के लगातार गिरते प्रदर्शन पर चिंता जताई और लिखा कि अगर हम आज की कांग्रेस पार्टी की स्थिति पर चिंता ज़ाहिर ना करें तो मुझे लगता है कि हम अपनी पार्टी, जिसने हमें अस्तित्व में लाया है, के साथ न्याय नहीं कर रहे हैं. बिहार के चुनावों के परिणाम का विश्लेषण के बाद पार्टी में सब कुछ ठीक न होने की स्थिति देखकर एक युवा होने के नाते वह विचारों को जगजाहिर करने से हम रोक नहीं पाए हैं.



    बदलाव की ओर देश
    विक्रमादित्य सिंह ने कहा कि हमें समझना होगा कि देश और प्रदेश की स्थितियां दिन प्रतिदिन बदलती जा रही है और इन्हीं परिस्थितियों में हमें अपने आपको बदल कर “री-इन्वेंट” करने की आवश्यकता है और ज़मीनी स्तर की परिस्थितियों को समझ कर उसके माध्यम से पार्टी को अपनी दशा और दिशा में एक बड़ा हस्तक्षेप करने की आवश्यकता है. क्योंकि कई प्रदेश के चुनावों में देश की सबसे पुरानी और बड़ी पार्टी क्षेत्रीय दलों से भी पिछड़ने लग गई है और इन दलों के साथ गठबंधन करने पर मजबूर हो गई है, जबकि यह हमारी पार्टी के लिए शुभ संकेत नहीं है. विक्रमादित्य ने कहा कि बड़ी विनम्रता से वह आला नेताओं से निवेदन करेंगे कि ज़मीन स्तर की परिस्थितियों को समझ कर जनता से जुड़े हुए लोगों को महत्व देते हुए आगे किया जाए. जो जनता की उपेक्षा में खरे नहीं उतर रहे उन्हें पार्टी के उच्च पदों से ना नवाज़ा जाए.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज