होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /

हिमाचल में कांग्रेस को झटकाः BJP में जा सकते हैं पवन काजल, पार्टी ने कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटाया

हिमाचल में कांग्रेस को झटकाः BJP में जा सकते हैं पवन काजल, पार्टी ने कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटाया

कांगड़ा से कांग्रेस विधायक पवन काजल के भाजपा में शामिल होने की संभावना जताई जा रही है.

कांगड़ा से कांग्रेस विधायक पवन काजल के भाजपा में शामिल होने की संभावना जताई जा रही है.

Congress MLA Pawan Kajal to Joins BJP: पवन काजल 2012 में कांग्रेस में शामिल होने से पहले भाजपाई थे. लेकिन उन्होंने वीरभद्र सरकार को आजाद रहते हुए अपना समर्थन दिया था और बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए थे. वह वीरभद्र सिंह के काफी करीबी माने जाते थे. काजल कांगड़ा से 2 बार के विधायक हैं और बीते 10 साल में दोनों बार चुनाव जीते हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

पवन काजल 2012 में कांग्रेस में शामिल होने से पहले भाजपाई थी. लेकिन उन्होंने वीरभद्र सरकार को आजाद रहते हुए अपना समर्थन दिया था.
काजल कांगड़ा से 2 बार के विधायक हैं और बीते 10 साल में दोनों बार चुनाव जीते हैं.

शिमला. हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले राज्य में सियासत ऊफान पर है. प्रदेश के नदी नालों की तरह सियासत भी खूब हिचकोले मार रही है. इसी बीच हिमाचल में कांग्रेस को बड़ा झटका लगने वाला है. हालांकि कांग्रेस ने डैमेज कंट्रोल की कोशिश की है, लेकिन कांगड़ा से कांग्रेस विधायक पवन काजल के भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं. उनके भाजपा में जाने की अटकलों के बीच कांग्रेस पार्टी हाईकमान ने उन्हें प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष पद से हटा दिया है.

पवन की जगह पूर्व सांसद चंद्र कुमार को कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया गया है. कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने इस संबंध में मंगलवार देर रात को आदेश जारी किए.

कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी की ओर से कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने इस संबंध में मंगलवार देर रात को आदेश जारी किए.

इससे पहले, दिन भर यह चर्चा चलती रही कि पवन काजल कांग्रेस को अलविदा कहने वाले हैं. बताया जा रहा है कि उन्होंने भाजपा के संगठन मंत्री के साथ दिल्ली के लिए उड़ान भरी है. मंगलवार को ही सीएम जयराम ठाकुर और हिमाचल भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप भी दिल्ली गए हैं.

पहले भाजपाई थे पवन काजल कांग्रेस में फिर गए

पवन काजल 2012 में कांग्रेस में शामिल होने से पहले भाजपाई थे. लेकिन उन्होंने वीरभद्र सरकार को आजाद रहते हुए अपना समर्थन दिया था और बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए थे. वह वीरभद्र सिंह के काफी करीबी माने जाते थे. काजल कांगड़ा से 2 बार के विधायक हैं और बीते 10 साल में दोनों बार चुनाव जीते हैं. ऐसे में अब कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. वहीं, बता दें कि एक और कांग्रेस विधायक के भाजपा में शामिल होने की अटकलें हैं.

Tags: Himachal Congress, Himachal election, Himachal pradesh, Shimla News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर