ड्रग फ्री App पर आम जनता की भागीदारी कम होने से DGP नाराज, कही ये बात
Shimla News in Hindi

ड्रग फ्री App पर आम जनता की भागीदारी कम होने से DGP नाराज, कही ये बात
DGP ने कहा- चिट्टे के खिलाफ समाज के सभी वर्गों के साथ मिलकर चलाएंगे अभियान

मोबाइल ऐप (Mobile App) के जरिए सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाता है. उसे किसी भी तरह के कानूनी पचड़े (Legal issues) में नहीं घसीटा जाता. डीजीपी ने पुलिस की मदद (Help Police) करने का आम जनता से आह्वान किया और बढ़ती नशाखोरी के लिए माता-पिता को भी जिम्मेदार ठहराया.

  • Share this:
शिमला. नशे के खिलाफ अभियान (Campaign against drugs) पर हिमाचल पुलिस की ड्रग फ्री हिमाचल ऐप का अनुसरण देश की कई राज्यों की पुलिस कर रही है. नशाखोरों और नशा तस्करों की सूचना और उनकी धड़पकड़ के लिए हिमाचल इस तरह मोबाइल ऐप (App) का इस्तेमाल करने वाला
देश का पहला राज्य है, लेकिन नशे के खिलाफ अभियान में आम जनता की भागीदारी कम होने से डीजीपी सीताराम मरड़ी नाराज हैं. डीजीपी का कहना है कि इस सामाजिक बुराई (Social evil) को समाज के सभी वर्गों की भागीदारी के बिना खत्म नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि जनता को पता
होता है कि कहां किस तरह की हरकत होती है. जनता को इसकी सूचना मोबाइल ऐप के जरिए पुलिस को सूचना देनी चाहिए. उन्होंने कहा कि पुलिस पर सवाल उठाने से पहले लोगों को अपनी भूमिका निभानी चाहिए.

हिमाचल पुलिस ने नशे के खिलाफ जनता से App के जरिए जानकारी देने का आहवान किया.

गुप्त रखा जाता है सूचना देने वाले का नाम



बता दें कि इस ऐप के जरिए सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाता है. उसे किसी भी तरह के कानूनी पचड़े में नहीं घसीटा जाता. डीजीपी ने कहा कि लोग इस ऐप का इस्तेमाल कर पुलिस को सूचना नहीं देते. इस महामारी के खिलाफ लड़ने के लिए डीजीपी ने पुलिस की मदद करने का आम जनता से आह्वान किया है. उन्होंने बढ़ती नशाखोरी के लिए माता-पिता को भी जिम्मेदार ठहराया.

ये भी पढ़ें - यातायात पुलिस बॉडी वार्न कैमरों से हुई लैस, चालक व पुलिस नहीं कर पाएंगे मनमानी

ये भी पढ़ें - शिमला में न्यूनतम तापमान 1.1 डिग्री पहुंचा, 8 जनवरी तक मौसम रहेगा खराब
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading