हिमाचल : अयोग्य वीसी अब भी बने हुए हैं पद पर, 2 निजी विवि के चांसलरों को आयोग का समन

आयोग के चेयरमैन मेजर जनरल (रि.) अतुल कौशिक ने कहा कि इन यूनिवर्सिटियों के चांसलर को समन भेज कर 12 फरवरी को आयोग के सामने पेश होने को कहा गया है.

आयोग के चेयरमैन मेजर जनरल (रि.) अतुल कौशिक ने कहा कि इन यूनिवर्सिटियों के चांसलर को समन भेज कर 12 फरवरी को आयोग के सामने पेश होने को कहा गया है.

हिमाचल प्रदेश में 10 प्राइवेट यूनिवर्सिटियों के वाइस चांसलर निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग की जांच में अयोग्य (Disqualified) पाए गए थे. आयोग ने इन्हें हटाने का आदेश जारी किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2021, 4:37 PM IST
  • Share this:
शिमला. निजी शिक्षण संस्थान विनियामक आयोग (Private educational institution regulatory commission) के आदेश के बाद भी कुछ प्राइवेट यूनिवर्सिटियों (Private universities) ने अपने वाइस चांलर (Vice chancellor) नहीं हटाए. आयोग ने अब इन सभी को नोटिस (Notice) भेजा है. इस बारे में आयोग के चेयरमैन मेजर जनरल (रि.) अतुल कौशिक ने कहा कि इन यूनिवर्सिटियों के चांसलर को समन भेज कर 12 फरवरी को आयोग के सामने पेश होने को कहा गया है. कौशिक ने बताया कि 2 निजी विश्वविद्यालयों ने अपनी सफाई में जो दलीलें और दस्तावेज दिए हैं, वे सही नहीं पाए गए. दरअसल, हिमाचल प्रदेश में 10 प्राइवेट यूनिवर्सिटियों के वाइस चांसलर निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग की जांच में अयोग्य (Disqualified) पाए गए थे. आयोग ने इन्हें हटाने का आदेश जारी किया था. इस आदेश के बाद अब तक 6 निजी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की कुर्सी जा चुकी है.

अयोग्य वीसी को हटना होगा

चेयरमैन ने साफ किया कि सभी विश्वविद्यालयों को अपनी दलील पेश करने के लिए पूरा वक्त दिया जा रहा है, लेकिन ये साफ है कि जो लोग अयोग्य पाए गए हैं उन्हें अपनी कुर्सी छोड़नी पड़ेगी. अगर इन विवि के चांसलर इन्हें नहीं हटाते तो आयोग अपनी शक्तियों का प्रयोग कर कार्रवाई अमल में लाएगा. अयोग्य व्यक्तियों को हटाने से लेकर जुर्माना ठोकने की शक्तियां आयोग के पास हैं.

कार्रवाई के पीछे मंशा

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज