होम /न्यूज /हिमाचल प्रदेश /गांधी परिवार लगाएगा हिमाचल CM के नाम पर मुहर, प्रतिभा सिंह के नाम पर क्यों फंसा पेंच? जानें

गांधी परिवार लगाएगा हिमाचल CM के नाम पर मुहर, प्रतिभा सिंह के नाम पर क्यों फंसा पेंच? जानें

Big Story: हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री का फैसला गांधी परिवार ही करेगा. (Photo-News18)

Big Story: हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री का फैसला गांधी परिवार ही करेगा. (Photo-News18)

Himachal Polls 2022: हिमाचल प्रदेश का विधानसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस अपनी ही प्रदेश अध्यक्ष और सांसद प्रतिभा सिंह ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

प्रतिभा सिंह को सीएम बनाने पर कराने पड़ेंगे दो उप-चुनाव
हिमाचल कांग्रेस चाहती है विधायकों में से ही कोई सीएम बने
कांग्रेस अध्यक्ष का दावा खारिज, सुक्खू के साथ हैं ज्यादा विधायक

शिमला. हिमाचल विधानसभा चुनाव के बाद शुक्रवार को कांग्रेस में विवाद बढ़ गया. कांग्रेस के सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री की रेस में सुखविंदर सिंह सुक्खू, मुकेश अग्निहोत्री और राजेन्द्र राणा (पिछले चुनाव में प्रेम कुमार धूमल को हराने वाले) आगे हैं. पार्टी का मत है कि मुख्यमंत्री विधायकों में से ही होना चाहिए. इन नेताओं को लगता है कि प्रतिभा सिंह को सीएम बनाने पर दो उप-चुनाव कराने पड़ेंगे. एक लोकसभा का, दूसरा विधानसभा का.

ऐसे में जब मंडी में 10 में से 9 सीट कांग्रेस हार गई तो तुरंत उप-चुनाव में उतरना ठीक नहीं होगा. क्योंकि, अगर कहीं हार गए तो जो माहौल बना है वह बिगड़ सकता है. प्रतिभा को संभालने के लिए उनके बेटे विक्रमादित्य को मंत्रिमंडल में बड़ा ओहदा दिया जा सकता है. आलाकमान के सूत्र प्रतिभा सिंह के 25 विधायकों के समर्थन के दावे को सिरे से खारिज कर रहे हैं. उनके मुताबिक, व्यक्तिगत तौर पर सुक्खू के साथ ज्यादा विधायक हैं. विधायक दल की बैठक में एक लाइन का प्रस्ताव पास करके मुख्यमंत्री का फैसला आलाकमान पर छोड़ दिया जाएगा और सीएम के नाम पर अंतिम मुहर दिल्ली में लगेगी. सुक्खू के नाम पर भरोसा ज्यादा है. लेकिन, अंतिम फैसला गांधी परिवार का माना जाएगा.

विधायकों का इंतजार कर रही पार्टी
इधर, हिमाचल प्रदेश में मुख्यमंत्री के चयन के लिए कांग्रेस विधायक दल की बैठक 8 बजे हुई. पहले यह बैठक दोपहर 3 बजे होनी थी. कांग्रेस का कहना है कि 40 में से 35 विधायक बैठक के लिए पहुंच चुके थे, लेकिन पांच विधायक दूर दराज इलाकों से आ रहे थे. कांग्रेस की रणनीति के मुताबिक विधायक दल की बैठक में सर्वसम्मति से केंद्रीय नेतृत्व को मुख्यमंत्री नियुक्त करने का अधिकार दिया जाएगा. प्रदेश के प्रभारी राजीव शुक्ला, ऑब्जर्वर भूपेंद्र सिंह हुड्डा और भूपेश बघेल विधायकों द्वारा सर्वसम्मति से एक लाइन का प्रस्ताव पास कर दिल्ली लौटेंगे. उसके बाद पार्टी अध्यक्ष मलिकार्जुन खड़गे सहित गांधी परिवार से बात कर मुख्यमंत्री के नाम का ऐलान किया जाएगा.

बन सकते हैं राजस्थान जैसे हालात
बता दें, फिलहाल सोनिया गांधी और राहुल गांधी राजस्थान में हैं. कांग्रेस के लिए इस चुनाव सीएम के नाम को लेकर इसलिए पेंच फंस सकता है क्योंकि, प्रतिभा सिंह के समर्थक उनको सीएम बनाने के लिए लगातार हंगामा और नारेबाजी कर रहे हैं. जबकि, सुखविंदर सिंह सुक्खू के समर्थक विधायक भी अलग बैठक कर आगे की रणनीति बना रहे हैं. इसका मतलब साफ है कि दोनों नेता दबाव की राजनीति कर रहे हैं. मुख्यमंत्री पद की दौड़ में इन दो नेताओं के अलावा कुलदीप सिंह राठौर, मुकेश अग्निहोत्री और सुधीर शर्मा का नाम भी है. कांग्रेस आलाकमान को जल्दी फैसला लेना होगा वरना राजस्थान जैसे हालात हिमाचल प्रदेश में भी बन सकते हैं.

Tags: Assembly Elections 2022, Himachal Pradesh Assembly Election 2022

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें