Himachal: चुनाव ना लड़ने के बयान से पलटे पूर्व CM वीरभद्र सिंह, कहा-वो तो व्यंग्य था

हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह. (File Photo)

हिमाचल के पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह. (File Photo)

Virbhadra Singh Elections Statement: वीरभद्र सिंह ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट डालकर इस संबंध में स्थिति स्पष्ट की. आज मीडिया ने मेरे चुनाव न लड़ने बारे हल्के फुल्के व्यंग को गम्भीरता से ले लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2021, 5:21 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सोलन के अर्की से कांग्रेस (Congress) विधायक वीरभद्र सिंह (Virbhadra Singh) ने गुरुवार को साल 2022 विधानसभा चुनाव न लड़ने का ऐलान किया, लेकिन लेकिन, कुछ देर बाद ही उन्होंने अपना बयान बदलते हुए चुनाव लड़ने की बात कही. वीरभद्र सिंह इन दिनों सोलन (Solan) जिले के कुठाड़ स्थित अपने ससुराल में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं.

गुरुवार को वीरभद्र सिंह कुनिहार में पंचायत प्रतिनिधियों के शपथ समारोह में शिरकत की. उन्होंने जिप चुनाव में डुमैहर और दाड़ला से पार्टी प्रत्याशियों की कम मतों से हार पर कहा कि पार्टी में गद्दार घुस आए हैं, उनका पर्दाफाश किया जाएगा.

Youtube Video


और क्या बोले वीरभद्र सिंह
वीरभद्र सिंह ने कहा कि वह आज कांग्रेस के हाल पर दुखी हैं. क्योंकि इसमें कुछ नेता ऐसे हैं, जो खुद को कांग्रेसी कहलाना तो पसंद करते हैं, लेकिन वास्तव में वह कांग्रेस की पीठ में छूरा घोंपने का काम कर रहे हैं. नए लोगों को कांग्रेस में जोड़ने की आवश्यकता है. उन्होंने यह भी कहा कि वह कांग्रेसी हैं और मरते दम तक कांग्रेसी रहेंगे.

कांग्रेस में मचा हड़कंप

छह बार हिमाचल के सीएम रहे वीरभद्र सिंह के चुनाव ना लड़ने के ऐलान के साथ ही प्रदेशभर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में हड़कंप मच गया. वीरभद्र सिंह के कुठाड़ राजमहल लौटते ही सोलन सहित शिमला, रोहडू और रामपुर से समर्थक भी वहां पहुंच गए. समर्थकों ने उनसे मुलाकात कर अगला विधानसभा चुनाव लड़कर जनता की सेवा करने का आग्रह किया. इस पर वीरभद्र सिंह ने अपने बयान से पलटते हुए कहा कि अगर जनता ने चाहा तो वह अपना फैसला बदलकर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे.



सोशल मीडिया पर डाली पोस्ट.


सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली

इसके बाद रात को वीरभद्र सिंह ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर पोस्ट डालकर इस संबंध में स्थिति स्पष्ट की. आज मीडिया ने मेरे चुनाव न लड़ने बारे हल्के फुल्के व्यंग को गम्भीरता से ले लिया. उन्होंने कहा- मेरा चुनाव लड़ना या न लड़ना भविष्य के गर्व में छिपा है. जो सक्रिय राजनीति में है उन्हें एक ना एक दिन रिटायरमेंट लेनी है. यह एक सत्य हैं , लेकिन कब लेनी हैं यह प्रदेश की जनता और उस समय की राजनीतिक परिस्थितियां तय करेगी. मीडिया ने मेरे हल्के बयान को वीरभद्र ने आगे लिखा- प्रदेश के लोगों ने मुझे हमेशा बहुत प्यार और मान सम्मान दिया हैं और छह बार प्रदेश का मुख्यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर प्राप्त करवाया हैं, अतः राजनीति से सन्यास के विषय को में भविष्य की राजनीतिक गतिविधियों पर छोड़ता हूं. कांग्रेस पार्टी की मजबूती के लिए पूरे जोश के साथ लोगों के बीच आ जा रहा हूं. इसलिए इस तथ्य को गंभीरता से ना लिया जाए, जब तक मां भीमाकाली चाहेंगी मैं प्रदेश की सेवा करता रहूंगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज