COVID-19 के चलते हिमाचल सरकार का खजाना खाली! सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में होगी कटौती

हिमाचल सरकार का नया फैसला.

हिमाचल सरकार का नया फैसला.

Salary Deduction of Employee: फैसले पर कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति जताई है, प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि यह सरकार प्रदेश में अजीब स्थिती पैदा कर रही है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Govt) का खजाना खाली हो गया है. हाल में जारी आदेश से यही लग रहा है. स्वास्थ्य विभाग के सचिव अमिताभ अवस्थी की ओर जारी आदेशों के तहत अधिकारियों और कर्मचारियों का वेतन (Salary) काटा जाएगा. इस आदेश के पीछे कोरोना (Covid-19) से उपजी स्थिति का हवाला दिया गया है. क्लास वन और क्लास टू कर्मचारियों की 2 दिन की सैलरी कटेगी, जबकि क्लास थ्री और क्लास फोर श्रेणी के कर्मचारियों का एक दिन का वेतन काटा जाएगा.

आदेश के तहत स्वास्थ्य विभाग के क्लास वन और क्लास टू के अधिकारियों का एक दिन का वेतन काटा जाएगा और इनको छोड़ किसी भी हेल्थ वर्कर की सैलरी नहीं कटेगी. बड़ी बात यह है कि नियमित कर्मचारियों के साथ-साथ अनुबंध पर लगे कर्मचारियों के वेतन से भी पैसे काटे जाएंगे.

आदेशों में लिखा गया है कि कोरोना की दूसरी लहर से उपजी स्थिती को देखते हुए सरकार स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं और बुनियादी ढांचे को मजबूती करना चाहती है. वेतन हिमाचल प्रदेश कोविड-19 सॉलिडेरिटी रिस्पॉन्स फंड में जाएगा. सभी विभागों, सार्वजनिक उपक्रमों, स्वायत्त निकायों के सभी कर्मचारियों के वेतन काटे जाने संबंधी आदेश जारी किए गए हैं. सरकार ने सभी साधन संपन्न लोगों से भी फंड देने की अपील की है.

कांग्रेस ने जताया विरोध
इस फैसले पर कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति जताई है. पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि यह सरकार प्रदेश में अजीब स्थिती पैदा कर रही है. पहले भी कोरोना के नाम पर फंड जमा किया गया. सीएम जयराम ठाकुर उसका हिसाब दें. उन्होंने कहा कि स्वेच्छा जो देना चाहे दे, लेकिन सरकार अपनी फिजूलखर्ची कम करने के मूड में नहीं है. साथ ही कहा कि सीएम खुद के लिए उड़नखटोला ले रहे हैं और जनता पर बोझ डाला जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज