लाइव टीवी

कर्ज का मोह नहीं छोड़ रही हिमाचल सरकार, फिर लेगी 1160 करोड़ रुपये लोन
Shimla News in Hindi

Pradeep Thakur | News18 Himachal Pradesh
Updated: March 6, 2020, 10:07 AM IST
कर्ज का मोह नहीं छोड़ रही हिमाचल सरकार, फिर लेगी 1160 करोड़ रुपये लोन
हिमाचल में कोरोना वायरस के चलते कर्फ्यू लगाने के आदेश.

हिमाचल प्रदेश 55 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के कर्ज में डूबा है.

  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) की जयराम सरकार (Jairam Governement) एक बार फिर कर्ज लेने जा रही है. साल में निर्धारित कर्ज की सीमा के तहत यह इस वित्त वर्ष का अंतिम कर्ज होगा. वित्त विभाग ने सूबे का बजट (Budget) पेश होने से एक दिन पहले कर्ज संबंधी अधिसूचनाएं जारी की हैं, जिसमें दो अलग-अलग कर्ज (Loan) लेने की अधिसूचनाएं हैं. कुल 1160 करोड़ रूपये कर्ज लिया जाना है, जिसमें एक अधिसूचना 500 करोड़ रुपये की है. जो 9 वर्ष की स्टॉक सिक्योरिटीज की एवज में उठाया जा रहा है.

11 मार्च को खाते में आएगी राशि
दूसरी अधिसूचना 660 करोड़ रूपये की है, जो 6 वर्ष की स्टॉक सिक्योरिटीज की एवज में लिया जा रहा है. कर्ज संबंधी औपचारिकताएं 9 मार्च को पूरी होंगी जबकि सरकार के खाते में 11 मार्च को धनराशि आएगी. गौरतलब है कि जनवरी और फरवरी माह में भी सरकार ने कर्ज लिया है. कर्ज को स्टेट डवेलपमेंट लोन नाम दिया गया है.

दो माह में 3500 करोड़ रुपये कर्ज लिया



हिमाचल प्रदेश की सरकार ने बीते दो माह में 3500 करोड़ रुपये से ज्यादा कर्ज लिया है. इससे पहले, सात जनवरी को 500 करोड़ रुपये लोन लिया था. इसके बाद 31 जनवरी को भी दो अलग-अलग नोटिफिकेशन में 300 और 200 करोड़ का कर्ज सरकार ने उठाया था. अब 1160 करोड़ रुपये का कर्ज लिया जा रहा है. हिमाचल प्रदेश 55 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के कर्ज में डूबा है.



ये भी पढ़ें: बजट से पहले आर्थिक सर्वेक्षण: हिमाचल की विकास दर गिरी, 4 साल में सबसे कम हुई

धर्मशाला में भारत और दक्षिण अफ्रीका वनडे मैच पर कोरोना वायरस का साया!

Coronavirus: नार्थ कोरिया से शिमला लौटे 3 स्कूली बच्चों की होगी जांच

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 6, 2020, 10:06 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading