Assembly Banner 2021

COVID-19: हिमाचल को लॉकडाउन करने का ऐलान, CM जयराम ठाकुर ने विधानसभा में की घोषणा

हिमाचल में कोरोना वायरस के तीन मामले. (सांकेतिक तस्वीर)

हिमाचल में कोरोना वायरस के तीन मामले. (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के खतरे को देखते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM jairam Thakur) ने हिमाचल प्रदेश को भी लॉकडाउन करने का ऐलान कर दिया है. प्रदेश के कांगड़ा जिले को पहले से ही लॉकडाउन किया जा चुका है.

  • Share this:
शिमला. कोरोना वायरस (Coronavirus) का खतरा बढ़ता देख अब पर्वतीय राज्य हिमाचल प्रदेश को भी लॉकडाउन (Lockdown) करने का ऐलान कर दिया गया है. हिमाचल विधानसभा के बजट सत्र के दौरान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) ने यह ऐलान किया है. सीएम ने कहा कि अगले आदेशों तक लॉकडाउन रहेगा. कांगड़ा (Kangra) की तर्ज पर पूरे हिमाचल में आज से लॉकडाउन किया जा रहा है. कांगड़ा को रविवार को ही लॉकडाउन कर दिया गया है.

इससे पहले, आठ दिन के अवकाश के बाद सुबह 11 बजे हिमाचल विधानसभा का बजट सत्र शुरू हुआ. सोमवार को सत्र को केवल एक घंटे के लिए ही बुलाया गया है. बता दें कि हिमाचल में अब तक कोरोना वायरस के दो मरीज सामने आए हैं.

कांग्रेस ने विधानसभा लाया प्रस्ताव



सोमवार को सदन में कोरोना वायरस पर कांग्रेस और नेता विपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार से पूरे प्रदेश को लॉकडाउन करने की मांग की. उन्होंने कहा कि सरकार कर्मचारियों को अवकाश पर भेजे और इस दौरान अवकाश का वेतन दिया जाए. मुकेश ने कहा कि 15 दिन के लिए लॉकडाउन किया जाए, क्योंकि प्रदेश को बचाने के लिए यही एकमात्र उपाय है. विधानसभा में कांग्रेस नियम-67 के तहत सदन में स्थगन प्रस्ताव लाई थी.
हिमाचल में अब तक 57 लोगों की सैंपलिंग

प्रस्ताव के जवाब में सीएम जयराम ठाकुर ने विधानसभा में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया. सीएम ने कहा कि लोग अफवाहों पर बिल्कुल ध्यान न दें. हिमाचल में बड़े मंदिरों के साथ-साथ अब छोटे मंदिरों में भी आने-जाने पर रोक रहेगी. साथ ही शादी में धाम का आयोजन ना किया जाए. सीएम ने विधानसभा में बताया कि हिमाचल में अब तक विदेशों से 1237 लोग आए हैं. इनमें से 426 लोग 28 दिन पूरे कर चुके हैं. सूबे में अभी तक 57 संदिग्ध लोगों के टेस्ट हुए हैं, जिसमें 55 सैंपल नेगेटिव और दो सैंपल पॉजिटिव मिले हैं. कांगड़ा जिले में 2 पॉजिटिव केस मिले हैं. इस वक्त 667 लोग होम आइसोलेशन में हैं. इसके अलावा भी कुछ लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है.

ये है आदेशों में

राज्य के अंदर और राज्य से बाहर सार्वजनिक और निजी स्तर पर टैक्सी, ऑटो रिक्शा और किराए की गाड़ियों इत्यादि की आवाजाही को पूरी तरह से प्रतिबन्धित किया गया है. ट्रेनों और व्यावसायिक विमानों की आवाजाही या ठहराव पर पूर्ण प्रतिबंध होगा. निजी वाहनों को भी केवल आपातकाल स्थिति, अस्पताल आने जाने और आवश्यक सेवाओं को बनाए रखने के लिए आवागमन की अनुमति होगी. आदेशों के क्लॉज 2 में प्रदान की गई सेवाओं की आपूर्ति के लिए माल वाहक वाहनों की आवाजाही की अनुमति होगी. किराना, दूध, ब्रेड, फल, सब्जी, मांस, मछली और अन्य बिना पके खाद्य पदार्थ बेचने वाली दुकानों और उनके परिवहन संबंधी गतिविधियों और भंडारण के अलावा, सभी दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान, कारखाने कार्यशालाएं और गोदाम इत्यादि बन्द रहेंगेय.

अस्पताल और कैमिस्ट शॉप्स खुली रहेंगी

उन्होंने कहा कि अस्पताल, केमिस्ट स्टोर, आॅप्टिकल स्टोर, फार्मास्यूटिकल्स और साबुन बनाने वाले कारखाने और उनसे संबंधित परिवहन गतिविधियां जारी रहेंगी. इसके अलावा पेट्रोल पंप, एलपीजी गैस, तेल एजेंसियां, उनके गोदाम और उनकी परिवहन संबंधी गतिविधियाँ भी जारी रहेंगी। खाद्य, फार्मास्यूटिकल्स और चिकित्सा उपकरणों सहित सभी आवश्यक वस्तुओं का ई-कॉमर्स (वितरण) भी जारी रहेगा. किसी भी परिस्थिति में कोई भी सामाजिक, सांस्कृतिक, खेल-कूद, राजनीतिक, धार्मिक, शैक्षणिक, पारिवारिक, सामूहिक समारोहों या किसी भी प्रकार की सभा की अनुमति नहीं होगी.

ये सेवाएं भी रहेंगी जारी

कानून और व्यवस्था, मैजिस्ट्रेट ड्यूटी, पुलिस, सशस्त्र बल, केंद्रीय अर्धसैनिक बल, स्वास्थ्य, कोषागार, शहरी स्थानीय निकाय, ग्रामीण विकास, अग्निशमन, बिजली, पानी, नगरपालिका सेवाओं, बैंक व एटीएम, प्रिंट व इलेक्ट्रानिक व सोशल मीडिया, दूरसंचार, आईटी और आईटीईज़ सहित इंटरनेट सेवाएं, डाक सेवाएं, आपूर्ति श्रृंखला व संबंधित परिवहन और कोई अन्य सेवाएं जो संबंधित जिला के उपायुक्त आवश्यक समझें वह भी जारी रहेंगी. केवल मातृत्व अवकाश के अलावा उल्लिखित विभागों में कार्य करने वाले कर्मचारी छुट्टी पर नहीं जाएंगे और पहले से स्वीकृत अवकाश को तत्काल प्रभाव से रद्द करने का आदेश दिए गए हैं.

गाइडलाइन्स तोड़ने पर सख्ती

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग कोरोना वायरस को लेकर जारी गाइडलाइंस तोड़ रहे हैं, उनके खिलाफ सख्ती की जा रही है. सीएम ने कहा कि पूरे विश्व के साथ-साथ हम भी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर चिंतित हैं. साथ ही हम विपक्ष की चिंता से भी सहमत हैं. केवल बचाव ही इस बीमारी का इलाज है.

ये भी पढ़ें: COVID-19: जान खतरे में डालकर यूं देशसेवा कर रही हिमाचल की ये बेटी

हिमाचल में मौसम: दो दिन तक भारी बारिश और तूफान की आशंका

हिमाचल: 17 साल के नाबालिग ने 4 वर्षीय बच्ची से किया रेप, FIR
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज