अपना शहर चुनें

States

हिमाचल का ‘गौरव’: न्यूजीलैंड में नवनिर्वाचित सांसद गौरव शर्मा ने संस्कृत में ली शपथ

हिमाचल के हमीरपुर जिले से गौरव शर्मा न्यूजीलैंड में सासंद चुने गए हैं.
हिमाचल के हमीरपुर जिले से गौरव शर्मा न्यूजीलैंड में सासंद चुने गए हैं.

Himachal Pradesh Gaurav Sharma MP in New Zealand: गौरव के पिता प्रदेश बिजली विभाग में एक्सईन थे. उन्होंने ऐच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी और न्यूजीलैंड चले गए. वहां छह साल के लंब संघर्ष के बाद उन्हें नौकरी मिली.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2020, 12:58 PM IST
  • Share this:
शिमला. न्यूजीलैंड (New Zealand) में संसदीय चुनाव-2020 (New Zealand Election) में निर्वाचित हुए हिमाचली मूल के सांसद डॉ. गौरव शर्मा (Dr Gaurav Sharma) ने वैलिंगटन स्थित संसद भवन में संस्कृत में शपथ ली. 24 नवंबर को हुए शपथ ग्रहण समारोह में गौरव ने संस्कृत (Sanskrit) भाषा में शपथ लेकर भारत और हिमाचल (Himachal Pradesh) की संस्कृति का गौरव बढ़ाया है.  डॉ. गौरव शर्मा का जन्म 1 जुलाई 1987 को मंडी के सुंदरनगर में हुआ है.

मूल रूप से हमीरपुर से हैं गौरव
हालांकि, गौरव मूलत: जिला हमीरपुर के हड़ेटा गांव से हैं. गौरव ने हमीरपुर, धर्मशाला, शिमला और न्यूजीलैंड में शिक्षा प्राप्त की है. बीते दिनों न्यूजीलैंड में हुए चुनाव में गौरव शर्मा ने बतौर सांसद जीत दर्ज की है. वह इससे पहले 2017 में भी चुनाव लड़े थे, लेकिन हेमिल्टन से उन्हें हार मिली थी.

कितने वोटों से जीते गौरव
डॉ गौरव शर्मा हेमिल्टन सीट पर लेबर पार्टी के टिकट पर शानदार जीत दर्ज की है. उन्हें 15873 मत मिले थे, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी को 11487 मत प्राप्त हुए. गौरव शर्मा ने न्यूजीलैंड में छात्र राजनीति में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया. हालांकि यह मैनस्ट्रीम पॉलिटिक्स में यह उनका दूसरा चुनाव है. लेकिन वह पढ़ाई के दौरान यूनिवर्सिटी सीनेट में छात्र संगठनों के प्रतिनिधि भी रहे. इसके अलावा, मेडिकल एसोसिएशन और रिफ्युजी काउंसिल की सदस्यता के लिए भी उन्हें चुना गया था.



पिता ने बिजली विभाग से ली थी वीआरएस
गौरव के पिता प्रदेश बिजली विभाग में एक्सईन थे. उन्होंने एच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी और न्यूजीलैंड चले गए. वहां छह साल के लंब संघर्ष के बाद उन्हें नौकरी मिली. इस दौरान उन्होंने समाजिक सरोकार के कामों हिस्सा लेने के अलावा टैक्सी चलाकर गुजारा किया. उनकी मां ने भी कम्युनिटी सर्विस में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया. इससे उन्हें यहां काफी पहचान मिली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज