हिमाचल पुलिस की कॉफी टेबल बुक पर विवाद, कमल के साथ नड्डा का संदेश छापने पर हंगामा

हिमाचल पुलिस मुख्यालय.

हिमाचल पुलिस मुख्यालय.

Himachal Police Coffee table book Controversy: सीएम जयराम ठाकुर ने मामले को ज्यादा तूल ना देने की बात कही है. वहीं विपक्षी नेता अब इस मामले में सवाल उठा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 2:24 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल पुलिस की कॉफी टेबल बुक ‘वीरांगना’ पर जबरदस्त विवाद हो गया है. इस कॉफी टेबल बुक में भाजपा (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के संदेश को पार्टी के चिन्ह कमल के साथ छापा गया है, जबकि राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narender Modi) के संदेश राष्ट्रीय चिन्ह के साथ छापे गए हैं. विपक्षी दलों ने इस पर सवाल उठाए हैं.

महिला दिवस पर विमोचन

बता दें कि 8 मार्च को शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को लेकर आयोजित एक कार्यक्रम में हिमाचल पुलिस की इस कॉफी टेबल बुक का विमोचन राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने किया था. इस बुक हिमाचल पुलिस की महिला अधिकारियों और कर्मचारियों की विकास यात्रा से लेकर अन्य उपलब्धियों को दर्शाया गया है. इस बुक में देश के गृह मंत्री अमित शाह, राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय,सीएम जय राम ठाकुर, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर समेत कई लोगों के संदेश हैं. इन सभी के संदेश राष्ट्रीय प्रतीक के साथ छपे हैं. तिब्बती धर्मगुरू दलाई लामा का संदेश भी छापा गया है. हालांकि जेपी नड्डा राज्यसभा सांसद भी हैं, लेकिन उनके संदेश में सबसे ऊपर पार्टी का निशान कमल बना हुआ है और उसके नीचे राष्ट्रीय अध्यक्ष, भारतीय जनता पार्टी लिखा हुआ है.

सभी नेताओं के संदेश राष्ट्रीय प्रतीक के साथ छापे गए हैं. लेकिन नड्डा का संदेश पार्टी निशान के साथ है.

ये बोले सीएम

सीएम जय राम ठाकुर ने इस मुद्दे पर कहा कि बुक को डिटेल से नहीं देखा है कि किस-किस के संदेश हैं. उन्होंने कहा कि जेपी नड्डा राज्यसभा सांसद हैं और इस खास मौके पर जो संदेश दिया है, उस भावना की कद्र करनी चाहिए, इस विषय को अन्यथा न लें.

8 मार्च को शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस को लेकर आयोजित एक कार्यक्रम में हिमाचल पुलिस की इस कॉफी टेबल बुक का विमोचन राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने किया था.




नेता प्रतिपक्ष ने ये कहा

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने इसे एक बड़ी चूक करार दिया. साथ ही कहा कि ये चूक स्वीकार्य नहीं है, हिमाचल पुलिस को पार्टी के चिन्ह को इस बुक से हटा देना चाहिए. माकपा विधायक राकेश सिंघा ने कहा कि इसका मकसद ये है कि राज्य के हर तंत्र में आरएसएस के विचार को स्थापित किया जाए या अपने रंगत में रंग दिया जाए, ये लोकतांत्रिक और प्रशासनिक व्यवस्था के लिए सही नहीं हैं. उन्होंने कहा कि डीजीपी से विनती है कि मेहरबानी करके इसे हटा दें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज