कांग्रेस ने कहा- LAC पर चीनी सैनिकों की बढ़ती गतिविधियां सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा
Shimla News in Hindi

कांग्रेस ने कहा- LAC पर चीनी सैनिकों की बढ़ती गतिविधियां सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा
चीनी सैनिकों द्वारा किए जा रहें सड़क निर्माण से भारत को आने वाले समय मे गंभीर खतरा हो सकता है.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

हिमाचल कांग्रेस (Congress) ने कहा है कि प्राप्त सूचना के अनुसार किन्नौर जिला की सीमा पर चीनी सैनिकों द्वारा किये जा रहे सड़क निर्माण से भारत को आने वाले समय में गंभीर खतरा हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 5, 2020, 7:20 PM IST
  • Share this:
शिमला. हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिला और लाहौल-स्पीति से लगते सीमावर्ती क्षेत्रों में चीनी सैनिकों की बढ़ती गतिविधियों को लेकर कांग्रेस (Congress) ने चिंता जाहिर की है. भारत-चीन (India-China Border Dispute) के बीच उच्चस्तरीय बातचीत के बावजूद भी चीनी सेना का पीछे न हटने पर प्रदेश कांग्रेस ने भारत सरकार को पत्र लिखा है. कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने हिमाचल से लगती भारत-चीन सीमा पर चीन की पूरी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखते हुए यहां सुरक्षा व्यवस्था और खुफिया तंत्र को मजबूत करने की मांग की है. उन्होंने कहा है कि प्राप्त सूचना के अनुसार किन्नौर जिला की सीमा पर चीनी सैनिकों द्वारा किए जा रहें सड़क निर्माण से भारत को आने वाले समय मे गंभीर खतरा हो सकता है.

LAC पर चीनी सैनिकों की गतिविधियों पर कांग्रेस चिंतित
कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए राठौर ने बताया कि उन्होंने इस संदर्भ में आज एक ज्ञापन राज्यपाल की मार्फत भारत सरकार को भेजा है. ज्ञापन में भारत सरकार से मांग की गई है कि लाहुल स्पीति जिला के लाहुल, लद्दाख, कोखसर, दलांग, जिंगजिंगबार, पंग, उपशी, सुमदोह, स्पीति और पूह में सेना के ट्रांजिट कैम्प जल्द स्थापित किए जाएं. देश की सीमा की सुरक्षा में कही कोई कमी न रहे एनएच-3 मनाली लेह सड़क पर बने सभी पुलों पर भी कड़ी नजर रखी जाए.

China, Galwan Valley, India, Shiv Sena, Priyanka Chaturvedi, Prime Minister Narendra Modi
चीन ने लद्दाख उप मंडल के गांव चुम्मर और नीमो में अपनी गतिविधियों को बढ़ाया है.

केंद्रीय रक्षा मंत्रालय से हस्तक्षेप की मांग


राठौर का कहना था कि चीन ने लद्दाख उप मंडल के गांव चुम्मर और नीमो में अपनी गतिविधियों को बढ़ाया है. इसपर कड़ी नजर रखने की जरूरत है. सेना ने इन गांव के लोगों को यहां से दूर जाने को कहा है. ऐसे में इन लोगों को सुरक्षित स्थानों में बसाया जाना चाहिए. ज्ञापन मे स्पीति घाटी में जल्द ही एक एयरपोर्ट बनाने की मांग भी की गई है, जिससे यहां सेना के साथ साथ स्थानीय लोगों को मुश्किलों के दिनों में आने जाने की सुविधा मिल सके.

ये भी पढ़ें: क्या है भारत चीन के बीच सीमा विवाद? LAC से जुड़े अहम सवालों के जवाब

राज्यपाल को दिया ज्ञापन
ज्ञापन में रोहतांग सुरंग जो बनकर तैयार हो चुकी है उसमे लाहुल और लेह के सभी लोगों के उपयोग की अनुमति दी जानी चाहिए. 1355 करोड़ की लागत से बनने वाली इस सुरंग को वर्ष 2010 में तत्कालीन यूपीए सरकार की अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी ने इसकी आधारशिला रखी थी. इसका पूरा लाभ जनजातीय क्षेत्र के लोगों को मिलना चाहिए.

ज्ञापन मे स्पीति घाटी में जल्द ही एक एयरपोर्ट बनाने की मांग भी की गई हैindia-china border dispute 2020, किन्नौर, लाहौल, स्पीति, हिमाचल प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में चीनी सैनिकों की बढ़ती गतिविधियां, कांग्रेस, Himachal pradesh congress, defense minister rajnath singh, china border tension, भारत-चीन संबंध, भारत-चीन सीमा विवाद, किन्नौर जिला, indian railway, ladakh, लेह-लद्दाख, bilaspur manali leh rail project, बिलासपुर-मनाली-लेह रेल प्रॉजेक्ट, जम्मू-कश्मीर, india china border issue, india china war, what is line of actual control, line of control, india china LAC, india china defense, भारत चीन सीमा विवाद, भारत चीन युद्ध, वास्तविक नियंत्रण रेखा, भारत चीन एलएसी
ज्ञापन मे स्पीति घाटी में जल्द ही एक एयरपोर्ट बनाने की मांग भी की गई है(सांकेतिक तस्वीर)


LAC के नजदीक चीनी सैनिकों की गतिविधियां जारी
कांग्रेस महासचिव किन्नौर के विधायक जगत सिंह नेगी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के उस दाबे को जिसमें उन्होंने कहा था कि चीन की सेना ने भारत की जमीन पर कोई कब्जा नही किया है को पूरी तरह नकारते हुए कहा कि वह देश को गुमराह कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि असल मे चीन अब पीछे हटने को तैयार ही नही है. चीन ने किन्नौर के साथ लगती हमारी सीमा पर जबरदस्त घुसपैठ कर ली है. हमें अब यहां अग्रिम चौकियों की बहुत आवश्यकता है जिससे चीन को आगे बढ़ने से रोका जा सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज