लाइव टीवी

जाखू के जंगल में सजती है महफिल, दिनदिहाड़े दर्जनों युवा करते हैं नशे का सेवन

Ranveer Singh | News18 Himachal Pradesh
Updated: November 9, 2019, 1:50 PM IST
जाखू के जंगल में सजती है महफिल, दिनदिहाड़े दर्जनों युवा करते हैं नशे का सेवन
जंगल में नशे के अड्डे की ओर बढ़ते युवा

हिमाचल प्रदेश में जाखू के जंगल ( Jakhu's forest) में नशा करने वाले युवाओं की रोज महफिल सजती है. दिनदिहाड़े दर्जनों युवा यहां नशे का सेवन करते हैं लेकिन पुलिस जंगल में कभी नहीं आती.

  • Share this:
शिमला. संजौली और समिट्री के इलाके में जाखू के जंगल ( Jakhu's forest) के बीच झुंड बनाकर दिन के 2 बजे दर्जनों छात्रों को देखा जा सकता है. न्यूज 18 को सूत्रों के हवाले से खबर मिली कि जंगल के बीच हर रोज युवाओं की महफिल सजती है. चिट्टे से लेकर चरस और शराब (Heroin to hashish and wine) तक कई तरह के नशे दिन के उजाले में यहां खुलेआम लिए जाते हैं. जब इसकी छानबीन की गई तो जंगल में कहीं भी जाने पर नशे से जुड़ा कचरा मिला.

जंगल को सबसे मुफीद जगह मानते हैं नशेबाज 

नशेड़ियों की धरपकड़ के लिए पुलिस जंगलों में नहीं जाती. पुलिस के आंकड़े भी बताते हैं कि युवा नशे की गर्त में ज्यादा डूब रहे हैं. 2018 में कुल 226 लोग नशे के मामलों में पकड़े गए . जिनमें 21 से 30 वर्ष की आयु वाले युवाओं की संख्या 128 थी. इनमें एक लड़की भी शामिल थी. 18 युवाओं की उम्र 20 साल से भी कम थी. 31 से 50 वर्ष की आयु वाले 77 लोग पकड़े गए थे, जिनमें 3 महिलाएं और विदेशी नागरिक भी थे. 50 साल से अधिक उम्र वाले केवल 3 लोग गिरफ्तार किए गए. 4 नवंबर को ही एक 23 वर्षीय छात्रा 12 ग्राम चिट्टे के साथ गिरफ्तार की गई है. पुलिस की कार्रवाई और सरकार की कारगुजारी पर सियासत भी खूब होती है.



दो साल में तिगुना आए चिट्टे के मामले 

शिमला में नशे के मामलों को लेकर News 18 ने बीते 2 सालों के आंकड़े जुटाए. इन आंकड़ों से पता चला कि एक साल के भीतर चिट्टे के मामलों में 3 गुणा की बढ़ोतरी हुई है जबकि चरस के मामलों में 5 गुणा की कमी आई है. साल 2018 में 572.335 ग्राम चिट्टा पकड़ा गया था लेकिन 2019 के 9 महीनों के भीतर ही 1 किलो 684 ग्राम चिट्टा बरामद किया गया. इसकी कीमत करीब 1 करोड़ रुपए से ज्यादा है.

चरस की खपत कम हुई
Loading...

चरस की बात करें तो 2018 में 117 मामले पकड़े गए थे, जिसमें 45 किलो 394 ग्राम चरस पकड़ी गई थी.
2019 में अब तक मात्र 9 किलो 483 ग्राम चरस की जब्त की गई है. इस साल शिमला पुलिस ने अब तक 7 किलोग्राम अफीम की खेप पकड़ी है. लेकिन गांजा के मामलों में भी कमी आई है. बीते साल जहां 3 किलो 440 ग्राम गांजा पकड़ा गया था. इस साल मात्र 20 ग्राम गांजा ही पकड़ में आया है. इसके अलावा नशीली दवाएं लेने वालों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है.

चिट्टे का बढ़ता जा रहा क्रेज

यह आंकड़े बताते हैं कि चिट्टे की तरफ युवाओं का रुझान बढ़ा है. एक बात यह भी है कि ये वे मामले हैं जो पुलिस की पकड़ में आए हैं. जो रिपोर्ट ही नहीं हुए उनकी संख्या का कोई पता नहीं है. इन सबके बीच जो तस्वीरें सामने आई हैं, ये पुलिस और सरकार की नाकामी को दिखाने के लिए काफी हैं.

ये भी पढ़ें- VIDEO : पैंथर आ गया सामने तो मैडम बोलीं- ओ माई गॉड.. एमेजिंग.. दिनदहाड़े...

ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट में पहुंचे 1710 विदेशी निवेशक,आएंगे 82.34 हजार करोड़..

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए शिमला से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 6:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...