हिमाचल सरकार ने राज्य के 4 जिलों में 10 मई तक के लिए लगाया कोरोना कर्फ्यू, रात 10 से सुबह 6 बजे तक रहेगा प्रभावी

सीएम जयराम ठाकुर ने राज्य के चार जिलों में 10 मई तक के लिए नाइट कर्फ्यू को बढ़ा दिया है.(फाइल फोटो)

सीएम जयराम ठाकुर ने राज्य के चार जिलों में 10 मई तक के लिए नाइट कर्फ्यू को बढ़ा दिया है.(फाइल फोटो)

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के सीएम जयराम ठाकुर में चार जिलों में नाइट कर्फ्यू (Night curfew) को 10 मई तक के लिए बढ़ा दिया है. इन जिलों में कांगड़ा, ऊना, सोलन और सिरमौर शामिल हैं. यहां 27 अप्रैल की मध्यरात्रि से 10 मई तक सुबह 10 बजे से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 7:36 PM IST
  • Share this:
शिमला. कोरोना (Corona) महामारी के मामलों में तेजी से हो रही वृद्धि के दृष्टिगत राज्य सरकार ने प्रदेश के 4 जिलों कांगड़ा, ऊना, सोलन और सिरमौर में 27 अप्रैल मध्य रात्रि से 10 मई, 2021 तक रात्रि 10 बजे से सुबह 5 बजे तक कोरोना कर्फ्यू लगा दिया है. यह निर्णय आज यहां मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया है.

राज्य में आने वाले सभी आगन्तुकों को 72 घंटों के भीतर आरटीपीसीआर परीक्षण अनिवार्य करने का भी निर्णय लिया गया. यह भी निर्णय लिया गया कि राज्य में आने वाले किसी व्यक्ति ने यदि कोविड आरटीपीसीआर परीक्षण नहीं करवाया है तो उसे अपने निवास स्थान पर 14 दिन तक होम क्वारन्टीन रहना होगा. उनके पास घर आने के 7 दिन के बाद स्वयं परीक्षण करवाने का विकल्प भी होगा और यदि परीक्षण नेगेटिव पाया जाता है तो उन्हें होम क्वारन्टीन में रहने की आवश्यकता नहीं है.

Covid-19 Update: उत्तराखंड में कोरोना के 5 हजार नए केस, 81 मरीजों की मौत, धीमी पड़ी टेस्टिंग रफ्तार

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में स्थानीय निकाय अपने-अपने क्षेत्र में मानक संचालन प्रक्रिया और दिशा-निर्देशों को प्रभावी रूप से लागू करने में शामिल होंगे और उनके पास उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार होगा ताकि कोरोना महामारी को फैलने से रोका जा सके.
बैठक में स्थानीय स्तर पर विशेष कार्यदल गठित किए जाने का निर्णय लिया गया ताकि सभी धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक समारोहों के दौरान मानक संचालन प्रक्रियायों को प्रभावी ढंग से लागू किया जा सके. इन दलों को सरकार द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देशों और मानक संचालन प्रक्रियाओं का उल्लंघन करने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का अधिकार होगा. राज्य सरकार समय-समय पर स्थितियों का समीक्षा करके उचित निर्णय लेगी.

शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, तकनीकी शिक्षा और जनजातीय विकास मंत्री राम लाल मारकण्डा, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल, वन मंत्री राकेश पठानिया, मुख्य सचिव अनिल खाची, अतिरिक्त मुख्य सचिव प्रबोध सक्सेना, स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी और अन्य अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज