हिमाचल प्रदेश : फिर से रुलाने लगी प्याज की कीमत, आलू भी दिखाने लगा हेकड़ी

खुदरा दुकानदारों ने प्याज और आलू की कीमत इस तरह से खोंस रखी है.
खुदरा दुकानदारों ने प्याज और आलू की कीमत इस तरह से खोंस रखी है.

प्याज के दाम सेब को टक्कर दे रहे हैं. लोकल सब्जी मंडी में प्याज 70 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है जबकि शहर के उपनगरों में यही प्याज 75 से 80 रुपये तक पहुंच गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2020, 4:28 PM IST
  • Share this:
शिमला. कोरोना संक्रमण (Corona infection) का खतरा पहले ही त्योहार की खुशियों पर बड़ी रुकावट बना हुआ है और अब महंगी हो रहीं सब्जियां (prices of vegetables) करेले पर नीम का काम कर रही हैं. दशहरे (Dussehra) से ठीक पहले सब्जियों के बढ़ते दाम लोगों के पर्व को मनाने का मजा खराब कर सकते हैं. कोरोना संक्रमण के चलते दशहरे का बाजार पहले से ही फीका-फीका है, उस पर महंगी होती सब्जियां इस आग में घी का काम कर रही हैं.

शहरों में प्याज 80 रुपये किलो

एक साल बाद एक बार फिर प्याज उपभोक्ताओं को रुला रहा है. प्याज के दाम सेब को टक्कर दे रहे हैं. लोकल सब्जी मंडी में प्याज 70 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है जबकि शहर के उपनगरों में यही प्याज 75 से 80 रुपये तक पहुंच गया है. सब्जी मंडी में अधिकतर सब्जियों के दाम बढ़ने लगे हैं. लोगों को महंगाई सताने लगी है. सब्जी विक्रेताओं की मानें तो प्याज के और महंगा होने के आसार है. एक सप्ताह तक लोगों की जेब पर महंगाई का बोझ पड़ता रहेगा.



आलू की कीमत भी बढ़ी
लोकल सब्जी मंडी में प्याज 70 रुपये प्रतिकिलो पर पहुंच गया है, वहीं आलू 50 रुपये पर टिका हुआ है, जबकि टमाटर भी रसोई का जायका बिगाड़ने की तैयारी कर चुका है. टमाटर 60 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गया है. मटर 80 रुपये, करेला 60, भिंडी 50, फ्रेंचबीन 60 रुपये प्रतिकिलो बिक रहे हैं. बाहरी राज्यों से सब्जियों के आयात घटने से सब्जियों के दाम आसमान छूने लगे हैं. आलू की कीमत बीते दो सप्ताह से 50 रुपये प्रतिकिलो पर टिकी हुई है. महंगा आलू उपभोक्ताओं के माथे पर चिंता की लकीरें खींच रहा है. जाहिर है कि सब्जियों के बढ़ते दाम त्योहारी सीजन का मजा किरकिरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे. महंगाई से तंग लोग अब सरकार से इस बढ़ती कीमत पर नियंत्रण करने की मांग करने लगे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज