Home /News /himachal-pradesh /

धूल के आगोश में हिमाचल, ढाई गुना बढ़ा शिमला में प्रदूषण

धूल के आगोश में हिमाचल, ढाई गुना बढ़ा शिमला में प्रदूषण

धूल के गूबार में शिमला

धूल के गूबार में शिमला

राजधानी में पहुंचे धूल के गूबार से पिछले दो दिनों में प्रदूषण का स्तर 2.5 गुना बढ़ा है और इस तूफान को राकने के लिए बारिश का होना बहुत जरूरी हो गया है. मैदानी इलाकों में छाई धूल की धूंध अब पहाड़ों में पहुंच गई है. धूल ने शिमला समेत हिमाचल के तमाम इलाकों को अपने आगोश में ले लिया है.

अधिक पढ़ें ...
    राजधानी में पहुंचे धूल के गूबार से पिछले दो दिनों में प्रदूषण का स्तर 2.5 गुना बढ़ा है और इस तूफान को राकने के लिए बारिश का होना बहुत जरूरी हो गया है. मैदानी इलाकों में छाई धूल की धूंध अब पहाड़ों में पहुंच गई है. धूल ने शिमला समेत हिमाचल के तमाम इलाकों को अपने आगोश में ले लिया है. आलम यह है कि शिमला में विजिबिलिटी कम हो गई है.

    धूल का सबसे ज्यादा प्रभाव एयर क्वालिटी पर पड़ा है. राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सीनियर साइंटिफिक ऑफिसर संजीव शर्मा के अनुसार पिछले दो दिनों में राजधानी में प्रदूषण 2.5 गुना बढ़ा है. 12 जून को जो स्तर 61.35 था वो बढ़ कर 250.9 हो गया है. 1 जून से 13 जून तक राजधानी में गुड एयर क्वालिटी थी और पिछले दो दिनों में एयर क्वालिटी का स्तर गिरा है.

    यह भी पढ़ें-  PHOTOS : 6 माह तक ग्लेशियर में दबा रहा शहीद, अब जाकर नसीब हुई वतन की मिट्टी

    शिमला में पहुंचने वाली वैस्ट्रन विंड अपने साथ धूल के कण लेकर आई है, जिसका प्रभाव उत्तरी भारत में देखने को मिल रहा है.  प्रदेश में धूल की आंधी तभी खत्म हो पाएगी जब बारिश होगी. अगर मौसम महरबानी नहीं दिखाता है तो आंधी नुकसान कर सकती है. इसका सबसे ज्यादा असर स्वास्थ्य पर पड़ेगा. धूल के कणों से सांस से संबंधित बिमारियां और आंख संबंधी बीमारियां हो सकती है. ऐसे में अस्थमा के मरीजों को और डस्ट से एलर्जिक लोगों को ज्यादा परेशानी हो सकती है.

    यह भी पढ़ें-  किन्नौर के छितकुल में फंसा 22 ट्रैकरों का दल, एक की मौत

    प्रदूषण का स्तर अगर 400 के पार जाता है तो अलर्ट की स्थिति पैदा हो जाएगी, लेकिन प्रदेश में कहीं पर भी इस तरह की स्थिति उत्पन्न नहीं हुई है. हिमाचल में पर्यावरण में नमी बहुत है जो कि धूल कणों को सोंख लेता है. इससे धूल की आंधी का प्रभाव प्रदेश में ज्यादा देखने को नहीं मिल रहा है. मौसम विभाग के अनुसार धूल के तुफान का असर किन्नौर और लाहौल स्पिती को छोड़ कर बाकि जिलों में हुआ है. धूल के कारण तापमान में भी बढ़ोतरी हुई है. प्रदेश के मध्यपर्वतीय क्षेत्रों और मैदानी क्षेत्रों में मौसम विभाग की ओर से भारी बारिश और ओलावृष्टि की चेतावनी जारी कर दी गई है.

    यह भी पढ़ें-  VIDEO: कोल्ड ड्रिंक की बोतल में तैरती मौत, मिले कीड़े

    यह भी पढ़ें-  मनाली में पूर्व PM अटल के जल्द स्वस्थ होने के लिए प्रार्थना, प्रीणी में उनका ‘दूसरा घर’

    Tags: Air pollution, Himachal pradesh news, Shimla

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर