हिमाचल में कोरोना के रिकॉर्ड मामले, 24 घंटे में सामने आए 4359 नए केस; 53 की मौत

बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा, मण्डी, शिमला, सिरमौर और सोलन में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है.

बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा, मण्डी, शिमला, सिरमौर और सोलन में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ रही है.

स्वास्थ्य विभाग का दावा है पॉजिटिविटी रेट बढ़ रहा है लेकिन मृत्यु दर में पिछले हफ्ते में कमी आई है. प्रदेश में 3 से 9 मई तक कोरोना पॉजिटिव होने वालों की दर 26.3 प्रतिशत तक पहुंच चुकी है. बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा, मण्डी, शिमला, सिरमौर और सोलन जिलों में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

  • Last Updated: May 10, 2021, 11:21 PM IST
  • Share this:

शिमला. हिमाचल में कोरोना पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ता जा रहा है. पिछले 24 घंटे में प्रदेश में रिकॉर्ड 4359 नए केस सामने आए हैं. प्रदेश में 24 घंटो के भीतर 53 मरीजों ने दम तोड़ दिया. हालांकि 2355 मरीज ठीक होकर घर भी लौटे हैं. प्रदेश में एक्टिव केसों की संख्या 34417 पहुंच गई है. राज्य में कोरोना से अब तक 1925 लोगों की मौत हो चुकी है. हिमाचल में कोरोना संक्रमितों की दर लगातार बढ़ती जा रही है. स्वास्थ्य विभाग का दावा है पॉजिटिविटी रेट बढ़ रहा है लेकिन मृत्यु दर में पिछले हफ्ते में कमी आई है. विभाग की ओर से दी जानकारी के अनुसार प्रदेश में 3 से 9 मई तक कोरोना पॉजिटिव होने वालों की दर 26.3 प्रतिशत तक पहुंच चुकी है, जबकि 26 अप्रैल से 2 मई के बीच ये दर 20.04 प्रतिशत थी.

बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा, मण्डी, शिमला, सिरमौर और सोलन जिलों में संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है, इन जिलों में पिछले सप्ताह 20 प्रतिशत से अधिक पॉजिटीविटी रेट दर्ज किया गया है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मिशन उप निदेशक डॉ.गोपाल बेरी ने इसकी पुष्टी की है. स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी है कि प्रदेश में कोविड के लिए टेस्टिंग बढ़ाई गई है. पिछले सप्ताह में कोरोना टेस्ट का आंकड़ा एक लाख से अधिक रहा. इस दौरान 102455 कोरोना टेस्ट किए गए जबकि इससे पिछले हफ्ते में 84351 टेस्ट किए गए थे. अगर पिछले 2 सप्ताह में मृत्यु दर की तुलना की जाए तो पिछले सप्ताह मृत्यु दर 1.38 प्रतिशत से घटकर 1.17 प्रतिशत तक पहुंच गई है.

विभाग की ओर से ये भी जानकारी दी गई है कि राज्य स्तरीय कोविड क्लीनिकल समिति विभिन्न हितधारकों के साथ क्षमता आधारित सत्र आयोजित करवा रही है. रेमडेसिविर और ऑक्सीजन के क्षमता अनुसार उपयोग के संबंध में 8 और 9 मई को होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों के प्रबन्धन के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करवाया गया है. राज्य स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण संस्थान के अधिकारियों ने 10 मई को बाल चिकित्सा, महामारी प्रबन्धन और संक्रमण रोकथाम संबंधी प्रबन्धन पर आधारित बेबीनार भी आयोजित किया है.

वैक्सीनेशन को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी कि प्राथमिकता समूहों वाले वे लाभार्थी जिन्होंने 30 अप्रैल को या इससे पहले निजी कोविड वैक्सीन केंद्रों में भुगतान के आधार पर कोविड की पहली खुराक लगवाई है, उन्हें सरकारी क्षेत्र के कोविड टीकाकरण केंद्रों में दूसरी खुराक निःशुल्क लगाने के निर्देश दिए गए हैं. प्राथमिकता वाले समूह में स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ता, अग्रिम पंक्ति कार्यकर्ता और 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोग शामिल हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज