हिमाचल प्रदेश : नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की छठी बैठक, सीएम ने की फंड की मांग

बैठक के बाद सीएम जयराम ठाकुर ने बताया कि उन्होंने प्रदेश का पक्ष बेहतर ढंग से रखा.

बैठक के बाद सीएम जयराम ठाकुर ने बताया कि उन्होंने प्रदेश का पक्ष बेहतर ढंग से रखा.

इस बैठक में हिमाचल प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर वर्चुअली जुड़े. बैठक में सीएम ने इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए केंद्र से वित्तीय सहायता की मांग की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 20, 2021, 8:53 PM IST
  • Share this:
शिमला. पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की अध्यक्षता में शनिवार को नीति आयोग (NITI Aayog) की गवर्निंग काउंसिल (Governing Council) की छठी बैठक हुई. इस बैठक में हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के सीएम जयराम ठाकुर (CM Jairam Thakur) वर्चुअली जुड़े. बैठक में सीएम ने इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट के लिए केंद्र से वित्तीय सहायता की मांग की. सीएम ने फार्मा हब, एयर क्नेक्टिविटी, पर्यटन विकास और मेडिकल, इलेक्ट्रॉनिक इन्सट्रूमेंट मैनुफेक्चरिंग यूनिट के लिए फंड उपलब्ध करवाने की मांग की. बैठक में कृषि, अधोसंरचना, विनिर्माण और मानव संसाधन विकास के मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की गई.

बैठक में सीएम ने रखी ये मांग

बैठक के दौरान सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि पहाड़ी राज्य होने के कारण हिमाचल प्रदेश में अधोसंरचना सृजित करने के लिए अन्य राज्यों की अपेक्षा अधिक धनराशि और संसाधनों की जरूरत है. प्रदेश सरकार हिमाचल को देश का पर्यटन केन्द्र बनाने के लिए भरसक प्रयास कर रही है. लेकिन बेहतर हवाई और रेल सम्पर्क नहीं होने के कारण इसमें समस्याएं आ रही हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री से मांग की कि मंडी में ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे के निर्माण और कांगड़ा हवाई अड्डे के विस्तार के लिए पर्याप्त आर्थिक सहायता दी जाए. इससे जहां पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा, वहीं यह सामरिक दृष्टि से भी महत्त्वपूर्ण है. सीएम ने कहा कि राज्य सरकार अधोसंरचना विकास को प्राथमिकता दे रही है. अटल टनल रोहतांग का निर्माण रिकॉर्ड समय में पूरा करने और इस कार्य में व्यक्तिगत रुचि लेने के लिए उन्होंने पीएम का आभार जताया. उन्होंने कहा कि इस सुरंग के बनने से लाहौल और पांगी घाटी में लोगों की आजीविका में काफी सुधार हुआ है, हजारों की संख्या में पर्यटक यहां पहुंचने से यह सुधार आया है. सीएम ने कहा कि प्रदेश का बद्दी क्षेत्र एशिया का सबसे बड़ा फार्मा हब बनकर उभरा है. राज्य में बल्क ड्रग फार्मा पार्क के लिए प्रभावी रूप से कार्य शुरू किया गया है. इसके अतिरिक्त प्रदेश में मेडिकल डिवाइसिज मैनुफेक्चरिंग पार्क और इलेक्ट्रॉनिक मैनुफेक्चरिंग हब के लिए भी प्रयास जारी हैं, इसके लिए वित्तीय मदद की जरूरत है. इसके अलावा सीएम ने प्रदेश से जुड़े कई मुद्दे उठाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज