Good News: हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी के 1 लाख स्टूडेंट्स के लिए खुशखबरी, जल्द होंगे प्रमोट

यूजी डिग्री कोर्स के सिर्फ उन्हीं छात्रों को प्रमोट किया जाएगा, जिनकी इंटरनल असेसमेंट कॉलेज की ओर से यूनिवर्सिटी को भेजी गई है.

यूजी डिग्री कोर्स के सिर्फ उन्हीं छात्रों को प्रमोट किया जाएगा, जिनकी इंटरनल असेसमेंट कॉलेज की ओर से यूनिवर्सिटी को भेजी गई है.

Himachal Pradesh University Results: यूजी के परीक्षा फार्म भरने की अंतिम तिथि 25 मार्च तक बढ़ाई गई है. पिछले साल लॉकडाउन की वजह से कॉलेज बंद रहे थे और यूजी की प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं नहीं हुई थी. सरकार के आदेशों पर नवंबर में हुई ईसी की बैठक में इन दो बैच के छात्रों को प्रमोट करने का फैसला लिया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 12:42 PM IST
  • Share this:

शिमला. हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी (एचपीयू) के यूजी स्टूडेंट्स के लिए खुशखबरी है. एक लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स को एचपीयू अब प्रमोट करने जा रहा है. कोरोना के चलते इन स्टूडेंट्स के एग्जाम नहीं हो पाए थे और अब इन्हें एचपीयू प्रबंधन प्रमोट करेगा और इस संबंध में जल्द ही ग्रेजुएशन के फर्स्ट और सेकंड ईयर एक लाख विद्यार्थियों को प्रमोट कर रिजल्ट वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा. छात्र लॉगइन आईडी से रिजल्ट देख सकते हैं.

इंटरनल असेसमेंट व परीक्षा फार्म न भरने पर प्रमोशन नहीं

यूजी डिग्री कोर्स के सिर्फ उन्हीं छात्रों को प्रमोट किया जाएगा, जिनकी इंटरनल असेसमेंट कॉलेज की ओर से यूनिवर्सिटी को भेजी गई है. एचपीयू परीक्षा नियंत्रक डॉ. जेएस नेगी ने बताया है कि कोरोना के चलते बीते वर्ष ग्रेजुएशन के फर्स्ट और सेकंड ईयर की परीक्षाएं नहीं हो पाई थी. इस कारण अब छात्र-छात्राओं को प्रमोट करने का फैसला लिया गया है. छात्रों के कॉलेजों से भेजे गए इंटरनल असेसमेंट और परिणाम संबंधित रिकार्ड के आधार पर छात्रों को प्रमोट किया जाएगा. इसी सप्ताह परिणाम अपलोड कर दिया जाएगा.

परीक्षा फार्म 25 मार्च तक भरें
अगली कक्षा की परीक्षा देने के लिए भी प्रमोशन और परीक्षा फार्म भरना अनिवार्य होगा और जिन छात्रों की इंटरनल असेसमेंट नहीं आई होगी और जिन्होंने परीक्षा फार्म नहीं भरे होंगे, उन्हें प्रमोट नहीं किया जाएगा. यूजी के परीक्षा फार्म भरने की अंतिम तिथि 25 मार्च तक बढ़ाई गई है. पिछले साल लॉकडाउन की वजह से कॉलेज बंद रहे थे और यूजी की प्रथम और द्वितीय वर्ष की परीक्षाएं नहीं हुई थी. सरकार के आदेशों पर नवंबर में हुई ईसी की बैठक में इन दो बैच के छात्रों को प्रमोट करने का फैसला लिया गया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज