हिमाचल में क्राइम: साल 2020 में अब तक 364 सुसाइड, 107 रेप और 31 मर्डर
Shimla News in Hindi

हिमाचल में क्राइम: साल 2020 में अब तक 364 सुसाइड, 107 रेप और 31 मर्डर
हिमाचल प्रदेश में अपराधिक गतिविधियां.

घरेलू हिंसा और महिलाओं के प्रति अपराध भी बढ़े हैं. हिमाचल पुलिस के आंकड़ों की बात करें तो 31 मई 2020 तक महिला अपराध के हर रोज 3 मामले सामने आए हैं. हर 8 घंटे में एक महिला अपराध का शिकार हुई है.

  • Share this:
शिमला. देश-दुनिया में इस वक्त करोना सबसे बड़ा दुश्मन साबित हुआ है, जो लोगों की जान लेने पर आमादा है. कोरोना महामारी के बीच अपराध (Crime) भी अपने पांव लगातार पसार रहा है. हिमाचल (Himachal Pradesh) में कोरोना (Corona) के चलते अब तक 9 लोगों की मौत हुई है और 1300 से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं. लेकिन इस बीच क्राइम का ग्राफ भी बढ़ा है.

जानकर हैरानी होगी कि देवभूमि में इस साल के शुरूआती 5 महीनों के भीतर 31 लोगों की हत्याएं (Murder) हो चुकी हैं. वहीं, छह माह में 364 आत्महत्या (Suicide) के मामले सामने आए हैं. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान आत्महत्या के बढ़ते मामले परेशान करने वाले हैं. हिमाचल पुलिस ने जो आंकड़े जारी किए हैं, उसके मुताबिक छह महीनों के भीतर आत्महत्या के 364 मामले हैं.

कहां-कहां हुए सुसाइड
सूबे के बिलासपुर जिले में 14 सुसाइड केस रिपोर्ट हुए हैं. वहीं, चंबा में 6, हमीरपुर में 16, कांगड़ा में 54, किन्नौर में 5, कुल्लू में 15, लाहौल-स्पीति में 0, मंडी में 43, शिमला में 23, सिरमौर में 20, सोलन में 13, ऊना में 21 और बद्दी में 7 मामले सामने आए हैं. हालांकि कारण अलग-अलग हैं, लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि रोटी और रोजगार के संकट के चलते ज्यादातर लोग मानसिक दबाव में हैं...
डॉ.लोकिंद्र शर्मा, एमएस, रिपन अस्पताल शिमला का कहना है कि आत्महत्या सीधे तौर पर मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ा है. जाहिर सी बात है कि मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति ही अधिकतर अपराध में संलिप्त होता है, जिससे घर परिवार और समाज का माहौल खराब होता है.



घरेलू हिंसा के मामले बढ़े
देखने में ये भी आ रहा है कि घरेलू हिंसा और महिलाओं के प्रति अपराध भी बढ़े हैं. हिमाचल पुलिस के आंकड़ों की बात करें तो 31 मई 2020 तक महिला अपराध के हर रोज 3 मामले सामने आए हैं. हर 8 घंटे में एक महिला अपराध का शिकार हुई है. क्राइम अगेंस्ट वूमेन के अब तक 544 मामले प्रदेश के अलग अलग थानों में दर्ज हो चुके हैं. अब तक रेप के 107 मामले सामने आए हैं तो वहीं 9 महिलाओं की हत्या के मामले दर्ज हुए हैं.

महिला अपराध के आंकड़े
महिला अपराध में अब तक अपहरण के 88, यौन शोषण के 171, छेड़छाड़ के 39, आत्महत्या के लिए उकसाने के 20 और क्रूरता के 92 मामले सामने आए हैं. बीते पांच सालों में क्राइम अगेंस्ट वूमेन की बात करें तो साल 2015 में 1314 केस, 2016 में 1216, 2017 में 1260, 2018 में 1617 और 2019 में 1638 मामले सामने आए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज