हिमाचल में 8 जून से खुलेंगे होटल और रेस्टोरेंट, लेकिन आय कहां से होगी?
Shimla News in Hindi

हिमाचल में 8 जून से खुलेंगे होटल और रेस्टोरेंट, लेकिन आय कहां से होगी?
हिमाचल की राजधानी शिमला.

नवीन पॉल, अध्यक्ष, ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन शिमला, का कहना है कि लॉकडाउन हटने के बाद भले ही आम जनजीवन ठीक हो जाए, लेकिन पर्यटन को पटरी पर लौटने में डेढ़ साल लगेगा.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
शिमला. हिमाचल और केंद्र सरकार ने 8 जून को होटल (Hotel) ओर रेस्टोरेंट खोलने का फैसला सुनाया है. लेकिन, इससे पर्यटन (Tourism) कारोबार से जुड़े लोग परेशानी में पड़ गए हैं. दरअसल, हिमाचल (Himachal Tourism) में कर्फ़्यू लागू है, लेकिन जन जीवन को पटरी पर वापिस लाने के लिए सरकार धीरे-धीरे सभी पाबंदियां भी हटा रही है. करीब 2 महीनों से पर्यटन कारोबार पूरी तरह से ठप है. ऐसा पहली बार हुआ है जब पर्यटन से ज़ीरो रेवेन्यू हुआ है.

पर्यटन कारोबारियों के सामने बड़ी समस्या
पर्यटन कारोबारियों के सामने अब सबसे बड़ी समस्या यह है कि वो बिलों का भुगतान कैसे करेंगे, कर्मचारियों को वेतन कैसे देंगे और गाइड और टैक्सी चालक क्या कमाएंगे. क्योंकि इस वक्त हिमाचल में घूमने कौन आएगा ? लोग कोरोना के चलते घर से बाहर निकलने तक से गुरेज़ कर रहे है तो घूमना तो दूर की बात है. ऐसे में अगर होटल्स खुलेंगे भी तो आय का साधन क्या होगा.

सरकार की ओर से आश्वासन



जिन पर्यटकों ने शिमला आने के लिए एडवांस बुकिंग की थी और कोरोना के चलते बुकिंग कैंसिल हो गई है, उन के पैसों का भुगतान लौटाया जा चुका है. इससे अब होटल संचालकों को अपने कर्मचारियों को वेतन दे पाना भी मुश्किल हो रहा है. सरकार की ओर से आश्वासन दिया गया था कि कुछ रियायत दी जाएगी, लेकिन न तो डिमांड चार्जिस माफ किये गए और ना ही कोई आर्थिक पैकेज दिया गया. यहां तक कि केंद्र सरकार के 20 लाख करोड़ के पैकज में भी पर्यटन क्षेत्र को कोई तवज्जो नहीं दी गई. ऐसे में पर्यटन करोबार से जुड़े लोगों के भूखे मरने के दिन आ चुके हैंय कूली, टूरिस्ट गाइड, ट्रेवल एजेंट और टैक्सी ड्राइवर का काम पूरी तरह बंद हो चुका है, लेकिन सरकार अभी भी इस ओर ध्यान नहीं दे रही है. सभी दिहाड़ीदारों का काम खत्म हो चुका है. ऐसे में परिवार पालना मुश्किल हो गया है.



नवीन पॉल, अध्यक्ष, ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन शिमला
नवीन पॉल, अध्यक्ष, ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन, शिमला.


सरकार से मदद की गुहार
नवीन पॉल, अध्यक्ष, ट्रेवल एजेंट एसोसिएशन शिमला, का कहना है कि लॉकडाउन हटने के बाद भले ही आम जनजीवन ठीक हो जाए, लेकिन पर्यटन को पटरी पर लौटने में डेढ़ साल लगेगा. ऐसे सरकार को चाहिए कि पर्यटन कारोबारियों को कम ब्याज पर लोन दिए जाएं और एक साल बाद किश्त ली जाए. ट्रेवल एजेंसी के टर्नओवर को देख कर ही लोन दिया जाए, जो छोटे कारोबारी जीएसटी के दायरे में नहीं आते हैं, उनकी भी मदद की जाए.

ये भी पढ़ें: हिमाचल BJP में गुटबाजी: कांगड़ा प्रकरण पहले दिल्ली, अब शिमला पहुंचा

मंडी में चचेरे भाई पर बहन से रेप का आरोप, दोनों नाबालिग

हिमाचल: दो गुटों में खूनी झड़प, एक भाई की मौत, 2 घायल, 8 गिरफ्तार
First published: June 3, 2020, 2:49 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading